1. हिन्दी समाचार
  2. kolkata
  3. मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी ने भेजा ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक को नोटिस, पूछताछ के लिए पत्नी को भी बुलाया

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी ने भेजा ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक को नोटिस, पूछताछ के लिए पत्नी को भी बुलाया

कोयला तस्करी मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी और उनकी पत्नी रुजिरा बनर्जी को समन जारी कर पूछताछ के लिए बुलाया है। इसके अलावा बंगाल सीआईडी के एडीजी ज्ञानवंत सिंह और ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के वकील संजय बासु को भी समन भेजा गया है।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : कोयला तस्करी मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के  भतीजे अभिषेक बनर्जी और उनकी पत्नी रुजिरा बनर्जी को समन जारी कर पूछताछ के लिए बुलाया है। इसके अलावा बंगाल सीआईडी के एडीजी ज्ञानवंत सिंह और ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के वकील संजय बासु को भी समन भेजा गया है।

बताया गया है कि रुजिरा से कोल ब्लॉक आवंटन से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के कथित आरोपों को लेकर 1 सितंबर को पूछताछ की जा सकती है, जबकि अभिषेक को 6 सितंबर को पूछताछ के लिए आने को कहा गया है। जबकि उनकी पत्नी रूजीरा को ईडी ने 3 सितंबर को हाजिर होने के लिए कहा है।

ईडी ने कथित तौर पर पाया था कि अभिषेक बनर्जी और उनके परिवार के साथ संबंध रखने वाली दो कंपनियां- लीप्स एंड बाउंड प्राइवेट लिमिटेड और लीप्स एंड बाउंड मैनेजमेंट सर्विसेज एलएलपी को लगभग 4.37 करोड़ रुपये प्रोटेक्शन फंड के तौर पर मिले थे। यह पैसा एक कंस्ट्रक्शन कंपनी के जरिए उन आरोपियों ने दिए थे जिनकी कोयला तस्करी मामलले में जांच चल रही है।

आपको बता दें कि अभिषेक बनर्जी के पिता अमित बनर्जी लीप्स एंड बाउंड प्राइवेट लिमिटेड के निदेशकों में से एक हैं, जबकि उनकी पत्नी रुजिरा, अमित बनर्जी के साथ लीप एंड बाउंड मैनेजमेंट सर्विसेज लिमिटेड की निदेशक हैं। ईडी के अधिकारियों ने बताया कि अवैध कोयला खनन मामले में मनी लॉन्ड्रिंग में शामिल भ्रष्ट नेताओं ने बड़ी साजिश के तहत फर्जी करार कर अलग-अलग व्यापारियों से फंड एकत्रित किए थे।

कार्टून में हो रही थी नोटों की सप्लाई    

ईडी ने दावा किया है कि जांच में यह बात सामने आई थी कि कोयला तस्करी मामले में मुख्य आरोपी अनूप माजी ने एक शख्स के हाथों गिरफ्तार पुलिस इंस्पेक्टर अशोक मिश्रा को मार्च 2020 से पैसा देने के लिए कहा था। मार्च 2020 से कथित तौर पर प्रतिदिन कार्टून में करोड़ों रुपये पैक कर अशोक मिश्रा तक पहुंचाए जाते थे। बाद में अशोक मिश्रा ने पैसे ट्रांसफर किए थे। अधिकारियों के मुताबिक अशोक मिश्रा ने कई बार पैसों की डिलिवरी खुद ली कई बार उसकी जगह अन्य लोग डिलिवरी लेते थे। यह सब बांकुड़ा पुलिस स्टेशन के समीप उसके आवास पर हो रहा था।

अशोक मिश्रा ने कथित तौर पर ईडी को बताया कि बांकुड़ा पुलिस स्टेशन के ड्यूटी ऑफिसर को लॉकडाउन के दौरान ट्रासपोर्टेशन के लिए वाहन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया था। ईडी को आशंका है कि सरकारी वाहनों के जरिए पैसों का ट्रांसपोर्टेशन किया गया। ईडी ने बांकुरा पुलिस स्टेशन के उन 16 पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार किया है जिन्होंने लॉकडाउन अवधि के दौरान पैसों का ट्रांसपोर्टेशन किया था।

बता दें कि इससे पहले अभिषेक बनर्जी की पत्नी रुजिरा बनर्जी को इस साल फरवरी में सीबीआई ने तलब किया था। जांच एजेंसी के सूत्रों का दावा है कि मामले की जांच के दौरान उन्हें अभिषेक बनर्जी की पत्नी की कथित भूमिका का पता चला जिसके आधार पर उन्होंने उनसे पूछताछ करने का फैसला किया। सूत्रों का यह भी दावा है कि हाल के छापों और बयानों की रिकॉर्डिंग के दौरान सीबीआई को अभिषेक बनर्जी की पत्नी की कथित संलिप्तता का संकेत देने वाली सामग्री मिली है।

बता दें कि सीबीआई ने अनूप मांजी, ईस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड (ईसीएल), उनके अधिकारियों और अज्ञात अन्य के खिलाफ दुर्गापुर-आसनसोल बेल्ट और बाद में झारखंड से अवैध रूप से कोयला निकालने के आरोप में केस दर्ज किया था। FIR में मांजी के अलावा ईसीएल के महाप्रबंधक (कुनुस्तोरिया क्षेत्र) अमित कुमार धर, महाप्रबंधक (कजोरा क्षेत्र) जयेश चंद्र राय, सुरक्षा प्रमुख (आसनसोल) तन्मय दास और सुरक्षा प्रभारी (कजोरा) देबाशीष मुखर्जी को भी इस मामले में आरोपी बनाया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...