1. हिन्दी समाचार
  2. वायरल
  3. यात्री पर निर्भर करता है इस ऑटो चालक का खाना, घर के बाहर रहने पर भी नहीं खाता है बाहर का खाना; जानिए कैसे

यात्री पर निर्भर करता है इस ऑटो चालक का खाना, घर के बाहर रहने पर भी नहीं खाता है बाहर का खाना; जानिए कैसे

अक्सर आपने लोगों को घर के बाहर होटल या रेस्टोरेंट में खाना खाते देखा होगा, जिससे वे अपना पेट भर सकें। और दुबारा अपने काम पर लौट सके। क्योंकि अक्सर जल्दबाजी के चक्कर में वो या तो घर का खाना नहीं ला पाते या घर पर खाना नहीं बना होता है। लेकिन उन सबसे अलग यह ऑटो चालक घर के बाहर रहने के बावजूद भी बाहर का खाना नहीं खाता है। खाता हैं तो सिर्फ अपने पत्नी के हाथों का।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : अक्सर आपने लोगों को घर के बाहर होटल या रेस्टोरेंट में खाना खाते देखा होगा, जिससे वे अपना पेट भर सकें। और दुबारा अपने काम पर लौट सके। क्योंकि अक्सर जल्दबाजी के चक्कर में वो या तो घर का खाना नहीं ला पाते या घर पर खाना नहीं बना होता है। लेकिन उन सबसे अलग यह ऑटो चालक घर के बाहर रहने के बावजूद भी बाहर का खाना नहीं खाता है। खाता हैं तो सिर्फ अपने पत्नी के हाथों का।

अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर ये कैसे हो सकता है। क्या वह अपनी पत्नी को भी साथ में लेकर जाता है, तो आपको बता दें कि नहीं। दरअसल इस शख्स का नाम विशाल कुमार है, जो पेशे से एक ऑटो चालक है। जब इस बारे में उनसे पूछा गया कि वो आखिर कैसे घर के बाहर रहने के बावजूद भी बाहर का खाना नहीं खाते है, तो उन्होंने क्या कहा…

विशाल ने बताया कि उसके दोपहर के भोजन का कोई निश्चित समय या निश्चित जगह नहीं होता है। कभी वह मथुरा रोड पर लंच करता है, तो कभी आनंद विहार। उसका लंच सवारी (यात्री) पर निर्भर करता है, की यात्री को जाना कहां तक है। वह कहते है कि अगर कभी जोरों की भूख लगती है, तो वे चलते हुए ऑटो में भी भोजन कर लेते है। लेकिन सावधानी के साथ, जिससे यात्री को किसी तरह की परेशानी न हो। वह सुबह से शाम तक शहर भर में अपने ऑटो की सवारी करते हैं, और इन लंबे घंटों के थकाऊ काम के दौरान, वह केवल एक बार भोजन करते हैं, जो कि दोपहर का भोजन है। यह हमेशा घर का बना होता है।

विशाल इन सभी बातों का श्रेय अपनी पत्नी रेखा को देते है, जो हर सुबह 6 बजे उठकर अपने पति के लिए खाना बनाती है। इनके दो बच्चे भी है अर्जुन और अदिशा। विशाल ने बताया कि, “रेखा हम सभी के लिए एक ही बार में खाना बनाती है ताकि उसे दिन में दोबारा खाना न बनाना पड़े। आज का मेन्यू है सुखे आलू, चना-उड़द मिश्रित दाल और रोटियां। “कभी रेखा चार रोटियाँ रखती हैं, कभी वह पाँच रोटियाँ रखती हैं।”

विशाल ने आगे बताया कि जैसा कि ज्यादातर ऑटो चालकों की पत्नियों के मामले में होता है, “मेरी पत्नी भी पूरे समय मेरे लिए लगातार चिंता करती है … खासकर इन दिनों जब इतनी तेज और इतनी बार बारिश हो रही है।” वह अपनी चिंताओं को शांत करने के लिए उसे कई बार मोबाइल पर कॉल करती है, और बार-बार वही दो सवाल पूछती है। पहला है:- “खाना खा लिया (आपका खाना था)?” यह प्रश्न स्वाभाविक रूप से दोपहर के भोजन के साथ समाप्त होता है। दूसरा सबसे लगातार सवाल रहता है – “अभी कहां पर हो (अभी आप कहां हैं)?”

विजय ने बताया कि वह कभी भी अपनी पत्नी के दोपहर के भोजन की योजना के बारे में नहीं पूछते हैं और जो कुछ भी वह उसे दिन के लिए देती है वह खाते हैं। “जब कोई त्यौहार या जन्मदिन होता है, तो वह मेरी पसंदीदा राजमा चावल बनाती है।”

विशाल ने बताया कि दो हफ्ते पहले एक शाम को उन्होंने एक व्यंजन के खाने की लालसा हुई, जिसे उन्होंने पत्नी को बताया। वहीं रेखा ने बिना मुझे बताये राजमा की एक कटोरी को रात भर पानी में भिगोने के लिए छोड़ दिया और अगले दिन का दोपहर के भोजन में दिया, जो मेरे लिए एक सुखद आश्चर्य था। वो बहुत मेहनत करती है।

विशाल ने बताया की भोजन के अलावा वो अपने साथ पानी का एक बोतल रखते है। वो सुबह घर से निकलने के बाद प्रत्येक दिन रात नौ बजे रोहिणी अपने परिवार के पास वापस लौट आते है।

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...