Home देश दिल्‍ली में ठंड ने तोड़ा तोड़ा 15 साल का रिकॉर्ड, तापमान 1.1 डिग्री तक पहुंचा

दिल्‍ली में ठंड ने तोड़ा तोड़ा 15 साल का रिकॉर्ड, तापमान 1.1 डिग्री तक पहुंचा

2 second read
0
7

राजधानी सहित पूरे एनसीआर में नए साल का आगाज कड़ाके की ठंड और घने कोहरे में लिपटी सुबह के साथ हुआ। राजधानी में शुक्रवार की सुबह पिछले 15 साल में सबसे ठंडी दर्ज की गई। अनुमान है कि 4 जनवरी से पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के कारण न्यूनतम तापमान में वृद्धि होगी।

अगले दो दिन शीतलहर चलेगी और घना कोहरा रहेगा। राजधानी में अब तक का सबसे कम -0.6 डिग्री न्यूनतम तापमान वर्ष 1935 में दर्ज हुआ था। प्रादेशिक मौसम विभाग के अनुसार, राजधानी में इससे पहले, 8 जनवरी 2006 को न्यूनतम तापमान 0.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।

पिछले वर्ष पहली जनवरी को यह 2.4 डिग्री सेल्सियस रहा था। शुक्रवार को अधिकतम तापमान सामान्य के बराबर 19.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पिछले 24 घंटे में हवा में नमी का अधिकतम स्तर 100 फीसदी और न्यूनतम 57 फीसदी रहा।

सुबह 6:00 बजे तक सफदरजंग और पालम में घने कोहरे के कारण दृश्यता का स्तर शून्य दर्ज किया गया। मौसम विभाग के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव के अनुसार, 4  जनवरी से पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के कारण न्यूनतम तापमान में वृद्धि दर्ज की जाएगी। इस दौरान न्यूनतम तापमान 8 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने की संभावना है।

मौसम विभाग ने कुछ दिनों पहले ही पूर्वानुमान जारी करते हुए दिल्‍ली समेत उत्‍तर भारत के अनेक इलाकों में भीषण ठंड पड़ने की संभावना जताई थी। दिल्‍ली में जनवरी के महीने में पिछले 8 वर्षों के न्‍यूनतम तापमान पर नजर डालें तो इस साल सर्दी सितम ढा रही है।

आकंड़ों के अनुसार, 2012 में 4.4, 2013 में 1.9, 2014 में 4.4, 2015 में 4, 2016 में 4.2, 2017 में 3.2, 2018 में 4.2, 2019 में 4, 2020 में 2.4 और 2021 में अब तक 1.1 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान दर्ज किया गया है।

दिल्‍ली में वर्ष 2021 की पहली सुबह घने कोहरे के बीच हुई। सुबह से ही दिल्‍ली-एनसीआर के इलाकों में कोहरे की मोटी चादर बिछी रही। आलम यह था कि अहले सुबह कोहरे के कारण कुछ दूर देख पाना भी मुश्किल हो रहा था।

वाहन चालकों को अतिरिक्‍त सावधानी के साथ गाड़ी चलाना पड़ रहा था। सड़कों पर वाहन रेंगने को मजबूर हो गए। पर्वतीय इलाकों में लगातार हो रही हिमपात और सर्द हवाओं का असर अब मैदानी इलाकों में भी देखा जाने लगा है। हिमाचल, उत्‍तराखंड, हरियाणा, दिल्‍ली, उत्‍तर प्रदेश और बिहार जैसे प्रदेश भी भीषण ठंड की चपेट में हैं।

मौसम विभाग के मुताबिक पश्चिमी विक्षोभ के चलते 3 से 5 जनवरी के बीच दिल्ली एनसीआर में हल्की बौछारें भी पड़ सकती हैं। वहीं इसके कारण पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र में सामान्य बर्फबारी होने का अनुमान है।

आप को बता दे कि ठंड बढ़ने का असर वायु गुणवत्ता पर भी पड़ा। गुरुग्राम को छोड़कर पूरे दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का स्तर गंभीर श्रेणी में दर्ज किया गया। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, राजधानी का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 441 रहा। गाजियाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा व फरीदाबाद में एक्यूआई 400 से अधिक के आंकड़े के साथ गंभीर श्रेणी में रहा।

सफर के अनुसार, तापमान के गिरने और कोहरे की वजह से प्रदूषण का स्तर बढ़ा है। इससे स्मॉग की स्थिति बनी है। शनिवार से हवा की गति बढ़ने के कारण प्रदूषण के स्तर में सुधार की संभावना है। वहीं, 3 जनवरी से पश्चिमी विक्षोभ के कारण दिल्ली-एनसीआर में बारिश की संभावना को देखते हुए प्रदूषण का स्तर कम होने के कयास हैं।

Load More In देश
Comments are closed.