Home Breaking News रांची में स्वास्थ्य मंत्री के सामने कोरोना मरीज ने तोड़ा दम, चिखती रही बेटी ,नहीं मिली मदद

रांची में स्वास्थ्य मंत्री के सामने कोरोना मरीज ने तोड़ा दम, चिखती रही बेटी ,नहीं मिली मदद

0 second read
1
3

रिपोर्ट – माया सिंह

रांची :  देशभर में एक बार फिर कोरोना वायरस अपना पांव पसार रहा है । रोजाना कोरोना के सैकड़ों नये मरीज मिल रहे हैं । इस दौरान राज्य दर राज्य स्वास्थ्य सुविधाओं की पोल खुलती हुई नजर आ रही है । झारखंडज की राजधानी रांची का भी हाल कुछ ऐसा ही हैं , बीते दिन यहां एक कोरोना संक्रमित मरीज ने अस्पताल के सामने जिंदगी की भीख मांगता रहा लेकिन उसे भर्ती नहीं किया गया और आखिरी में उसने दम तोड़ दिया । सबसे बड़ी बात यह है कि यह घटना उस वक्त  हुई जब राज्य के स्वास्थय मंत्री उसी अस्पताल का निरीक्षण करने पहुचे थे ।

दरअसल , झारखंड के हाजारीबाग से 60 वर्षीय पवन गुप्ता राजधानी के सदर अस्पताल में इलाज कराने पहुंचे थे , लेकिन हॉस्पीटल के डॉक्टर ने उन्हें अटेंड ही नहीं किया । अफसोस है कि घर से निकलकर समय पर अस्पताल पहुंचने के बाद भी डॉक्टरों के इंतजार में उन्होंने अस्पताल के चौखट पर ही दम तोड़ दिया । पीड़ित की बेटी समेत अन्य परिजन अस्पताल के बाहर चिखते –चिल्लाते रहे लेकिन किसी ने एक नहीं सुनी ।

ताज्जूब की बात है कि उस वक्त स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता भी मौजूद थे लेकिन नजरअंदाज कर पीड़ित परिवार के  सामने से निकल गये । ऐसे में मृतक की बेटी ने मंत्री को जमकर खरी-खोटी सुनाई और कहा कि नेताओं को सिर्फ वोट से मतलब है, क्या वो उनके पिता को वापस लौटा सकते हैं ।

गौरतलब है कि मंगलवार को मंत्री बन्ना गुप्ता पीपीई किट पहनकर इसी अस्पताल का निरीक्षण करने मौके पर पहुंचे थे और कहा कि यहां स्थिती सामान्य है , सबकुछ सही चल रहा है । कहा जाता है कि सच छुपाय भी नहीं छुपता , इस मामले में भी कुछ ऐसा ही हुआ । चंद मिनटों के बाद ही सारी पोल खुल गई और सच्चाई सबके सामने आ गया । हाजारीबाग निवासी पवन गुप्ता ने अस्पताल में जगह नहीं मिलने पर दुनिया को अलविदा कह दिया ।  परिजन डॉक्टर के सामने गिड़गिड़ाते रहे लेकिन कुछ नहीं हो सका ।

ख़ास बात यह है कि जब पूरी घटना हो गई, तब मंत्री ने बयान दिया कि स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और गलती करने वालों पर एक्शन लिया जाएगा । हालांकि रांची का ही नहीं बल्कि जिले के अन्य अस्पतालों में भी यहीं स्थिती बनी हुई है ।

Load More In Breaking News
Comments are closed.