1. हिन्दी समाचार
  2. Breaking News
  3. दिल्ली को फिर डरा रहा कोरोना, पहली बार एक दिन में आए 8000 से अधिक नए मामले, 85 लोगों की हुई मौत

दिल्ली को फिर डरा रहा कोरोना, पहली बार एक दिन में आए 8000 से अधिक नए मामले, 85 लोगों की हुई मौत

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

त्योहारी मौसम, बढ़ते प्रदूषण और ठंड के मौसम के साथ ही लोगों की लापरवाहियों का असर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के कोरोना के मामलों पर देखा जा सकता है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या में रिकॉर्ड बढ़ोतरी हो रही है। दिल्ली में बीते 2 दिन में 16,423 मामले आ चुकेहैं और 168 लोगों की मौत हो चुकी है।

वही बुधवार को पहली बार हुआ जब 24 घंटे में 8000 से अधिक लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए। दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, 24 घंटे में 8,593 लोग कोरोना से संक्रमित हुए हैं और 85 लोगों की मौत हुई है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 24 घंटे की समयावधि में पहली बार इतने मामले आए हैं। इतने ही समय में 7,264 लोग रिकवर हुए हैं।

स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन के मुताबिक, शहर में संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 4,59,957 हो गई है।बुलेटिन के मुताबिक शहर में संक्रमण दर 13.4 फीसदी है।

कोरोना की मृत्युदर घटकर 1.57 फीसदी हो गई है। दिल्ली में फिलहाल 42629 कोरोना के सक्रिय मरीज हैं, जिनमें से विभिन्न अस्पतालों में 8497, कोविड केयर सेंटर में 825 और कोविड हेल्थ सेंटर में 279 मरीज हैं। होम आइसोलेशन में 24435 मरीज उपचाराधीन हैं।

विभाग के अनुसार, वंदे भारत के तहत आए मरीज 194 बेड पर हैं। बीते मंगलवार को आरटी-पीसीआर से 19304 और रैपिड एंटीजन से 44817 सैंपल की जांच हुई है। दिल्ली में अभी तक 5262045 सैंपल की जांच हो चुकी हैं। हॉटस्पॉट की संख्या बढ़कर 4016 हो गई है।

जैन ने कहा कि राजधानी दिल्ली में 16 सितम्बर के आसपास जब कोरोना संक्रमण का दूसरा उच्च स्तर (पीक) आया था और जब एक दिन में 4000 से अधिक नये मामले सामने आ रहे थे, उस अवधि के दौरान होने वाली जांच की तुलना में दिल्ली सरकार ने प्रतिदिन आधार पर जांच की संख्या में करीब तीन गुना तक बढ़ोतरी की है।

दिल्ली में कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी को देखते हुए दिल्ली सरकार कोरोना वायरस रोगियों के लिए इलेक्ट्रिक एंबुलेंस सेवा की खातिर एक ऐप लांच कर सकती है। यह जानकारी आज सूत्रों ने दी। उन्होंने कहा कि ये एंबुलेंस ऐसे रोगियों को ले जाएंगे, जिनकी हालत गंभीर नहीं है।

जिन रोगियों में लक्षण नहीं है या जिनमें हल्के लक्षण हैं उन्हें अधिकारियों ने सुझाव दिया है कि अगर उनके घर में सुविधाएं हैं तो वे गृह क्वॉरंटीन में रहें।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...