1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. प्रसपा मुखिया शिवपाल यादव का बड़ा बयान, कहा- हां मैंने मान लिया अखिलेश यादव ही सपा के ‘नए नेताजी’; पहले हुआ था विवाद

प्रसपा मुखिया शिवपाल यादव का बड़ा बयान, कहा- हां मैंने मान लिया अखिलेश यादव ही सपा के ‘नए नेताजी’; पहले हुआ था विवाद

Big statement of Praspa chief Shivpal Yadav; उत्तर प्रदेश में जल्द होने है विधानसभा चुनाव। प्रसपा मुखिया शिवपाल यादव का बड़ा बयान। सपा मुखिया अखिलेश यादव को माना अपना नेता।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव होने में महज कुछ माह शेष है, जिसे लेकर रणभेरियां बज चुकी है। जिसके बजते ही सभी पार्टियां लगातार रैली कर रहे है। चाहे वो बीजेपी हो या सपा या कांग्रेस या अन्य कोई पार्टी। सभी जोर-शोर से आने वाले चुनाव की तैयारी में लगे है। एक तरफ जहां बीजेपी अन्य छोटे दलों के साथ गठबंधन कर रही है, वहीं सपा भी बीजेपी को टक्कर देने के लिए छोटे दलों के साथ गठबंधन कर रही है। जबकि इस बार कांग्रेस के अकेले चुनाव लड़ने की संभावना है।

प्रसपा अध्यक्ष का बयान

प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल यादव ने कहा कि उन्होंने मान लिया है कि अखिलेश यादव ही सपा के ‘नए नेताजी’ हैं। मैं चाहता हूं कि वे मुख्यमंत्री बनें। उन्होंने कहा कि, मैंने ही उन्हें ट्रेनिंग दी है। लेकिन अब वे परफेक्ट हो गए हैं। दरअसल, 2018 में शिवपाल यादव ने अखिलेश यादव से मनमुटाव के बाद सपा से अलग होकर नई राजनीतिक पार्टी प्रसपा का गठन किया था। शिवपाल इससे पहले मुलायम सिंह यादव को ही सपा का नेताजी बताते रहे हैं।

दिल मिल गए घट गई दूरियां

हालांकि अब प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल यादव का दिल परिवर्तित हो चुका है और उन्होंने अखिलेश यादव को सपा का नेता मान लिया है। दरअसल कुछ दिनों पहले ही, उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सपा और प्रसपा ने गठबंधन का ऐलान किया है। इस दौरान दोनों दलों के मुखिया में काफी गर्मजोशी देखने को मिला। जबकि अभी सीटों पर बात होना बाकी है।

‘अखिलेश का हर फैसला मानने को तैयार’

शिवपाल यादव ने कहा कि, हमने पुरानी बातों को खत्म कर दिया। हमने सपा में 40-45 साल काम किया है। बहुत से आंदोलन हुए हैं। कई लोग इसमें शहीद भी हुए हैं। फैसला लिए जाते हैं, पार्टी को आगे बढ़ाना है, तो त्याग और संघर्ष करने पड़ते हैं। मेरे अंदर कोई मलाल नहीं है। बस सिर्फ हम अपनी बात रख देंगे। सलाह दे देंगे। फैसला अखिलेश जो भी लेंगे, हम मानने के लिए तैयार हैं।

सपा ने किया इन पार्टियों के साथ गठबंधन

आपको बता दें कि 2022 विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी ने प्रसपा, रालोद, सुभासपा, महान दल, एनसीपी, जनवादी पार्टी (सोशलिस्ट) और अपना दल (कमेरावादी) के साथ गठबंधन किया है। वहीं कई अन्य छोटे दलों के साथ बातचीत चल रही है, जिससे गठबंधन होने की संभावना है।

बीजेपी के साथ हुआ इन पार्टियों का गठबंधन

वहीं बीजेपी के साथ प्रगतिशील समाज पार्टी राष्ट्रीय सुनील कुशवाहा (प्रयागराज), सामाजिक न्याय नव लोक पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष लेखराज सिंह, आगरा से, राष्ट्रीय जलवंशी क्रांतिदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष ज्ञानेंद्र निषाद, गोरखपुर से, मानव क्रांति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी आर एन मानव, फतेहपुर से गठबंधन की घोषणा हुई। इसके अलावा बीजेपी ने- भारतीय मानव समाज पार्टी (Bharatiya Manav Samaj Party), मुसरहर आंदोलन मंच (गरीब पार्टी) (Musrahar Andolan Manch), शोषित समाज पार्टी (Shoshit Samaj Party), मानव हित पार्टी (Manav Hit Party), भारतीय सुहेलदेव जनता पार्टी (Bharatiya Suheldev Janta Party), पृथ्वी राज जनशक्ति पार्टी (Prithvi Raj Janshakti Party), भारतीय समता समाज पार्टी (Bharatiya Samta Samaj Party) के साथ भी गठबंधन किया है।

कांग्रेस, बसपा और अन्य दल

वहीं इस बार 2022 चुनाव में कांग्रेस के अकेले चुनाव लड़ने की संभावना है। जबकि बसपा का कुछ छोटे दलों के साथ बातचीत चल रही है।

2017 विधानसभा चुनाव परिणाम

अगर हम 2017 विधानसभा चुनाव की बात करें तो भारतीय जनता पार्टी 312(384), अपना दल (सोनेलाल) 9(11), सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी 4(8), समाजवादी पार्टी 47(311), कांग्रेस 7(114), बहुजन समाज पार्टी 19 (403), राष्ट्रीय लोकदल 1(277), निषाद पार्टी 1(72) और निर्दलीय को 3(1462) सीटें हासिल हुई।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...