1. हिन्दी समाचार
  2. क्राइम
  3. कोरोना संकट में मची लूट, मरीज को 25 KM ले जाने के लिए एंबुलेंस चालक ने वसूले 42000 रुपये

कोरोना संकट में मची लूट, मरीज को 25 KM ले जाने के लिए एंबुलेंस चालक ने वसूले 42000 रुपये

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट- पल्लवी त्रिपाठी 

नोएडा : कोरोना महामारी घातक होती जा रही है। ऐसे में अस्पतालों में स्वास्थ्य उपकरणों की कमी की खबरें भी आ रही है, जिसके चलते कई बार लोगों की मौत हो जाती है। इस बीच जहाँ कुछ लोग मसीहा बनकर लोगों की मदद कर रहे हैं, तो वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो मजबूरी में भी लोगों का फायदा उठा रहे हैं। ऐसा ही एक मामला देश की राजधानी दिल्ली से सटे नोएडा से सामने आया है। जहाँ एंबुलेंस चालक ने केवल 25 किमी. सफर तय करने के लिए मरीज के परिजन से मोटी रकम ऐंठ ली। बता दें कि एंबुलेंस चालक ने परिजन से पूरे 42000 रुपये वसूले है। 

दरअसल, दिल्ली हाई कोर्ट के अधिवक्ता असित कोरोना संक्रमित हो गए थे। उनके परिवार के अन्य सदस्यों की कोरोना रिपोर्ट भी पॉजीटिव आयी थी। जिसकी वजह से उनका छोटा भाई विष्णु उनकी देखभाल के लिए उन्हें अपने घर नोएडा सेक्टर-50 ले आया था।

लेकिन बीते सोमवार को असित की तबीयत अचानक ज्यादा खराब हो गई और अस्पताल ले जाने की नौबत आ गई। जिसके बाद विष्णु ने एंबुलेंस बुलाने के लिए एक नंबर पर कॉल किया। थोड़ी देर बाद एक प्राइवेट एंबुलेंस उनके घर पर पहुंच गई और मरीज को लेकर ग्रेटर नोएडा के शारदा अस्पताल पहुंच, लेकिन वहां बेड खाली नहीं था। जिसके बाद मरीज को प्रकाश हॉस्पिटल ले जाया गया। हालांकि, वहां पर भी बेड खाली नहीं था। फिर एंबुलेंस मरीज को लेकर ग्रेटर नोएडा वेस्ट स्थित यथार्थ अस्पताल पहुंची। 

इस तरह कई अस्पतालों के चक्कर काटते-काटते एंबुलेंस ने पूरे 25 किलोमीटर का सफर तय किया। आखिरकार, अस्पताल में बेड की व्यवस्था हो गई और मरीज को भर्ती कर लिया गया। जिसके बाद शुरू हुई लूट, एंबुलेंस चालक ने विष्णु से 44 हजार रुपए की मांग की। विष्णु इतने ज्यादा पैसों की मांग सुनकर हक्का-बक्का रह गया। पहले तो काफी देर तक विष्णु नहीं माना, लेकिन चालक के जबरदस्ती करने पर विष्णु पैसे देने के लिए तैयार हो गया। विष्णु ने 40 हजार रुपए पेटीएम के जरिए जबकि 2 हजार रुपये कैश चालक को दिए। 

हालांकि, मरीज की भर्ती प्रक्रिया पूरी करने के बाद विष्णु ने खुद के साथ हुई लूट की जानकारी नोएडा पुलिस को दी। फिर क्या था नोएडा पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए गाड़ी का नंबर ट्रेस किया और एंबुलेंस का पता लगा लिया। जिसके बाद पुलिस पते पर पहुंच गई। पुलिस द्वारा सख्ती करने पर एंबुलेंस चालक ने माफी मांगी और जायज पैसे काटकर बाकी पैसे वापस देने का वादा किया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...