1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. AIIMS की स्टडी से फिर साबित हुआ क्यों जरुरी है वैक्सीन, वैक्सीन लेने के बाद संक्रमित किसी शख्स की मौत नहीं

AIIMS की स्टडी से फिर साबित हुआ क्यों जरुरी है वैक्सीन, वैक्सीन लेने के बाद संक्रमित किसी शख्स की मौत नहीं

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

नई दिल्ली: कोरोना से बचने के लिए वैक्सीन ही एक मात्र उपाय है, लेकिन ग्रामीण इलाकों में वैक्सीन को लेकर अब भी भ्रम की स्थिति बनी हुई है। ग्रामीण इलाकों में वैक्सीन लगवाने से बचने की अजीब-अजीब जुगाड़ लगा रहे हैं। कहीं लोग कोई नदी में कूद रहे हैं तो कोई कहीं छिप रहा है। इन सब के बीच ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) की एक स्टडी कर बताया कि क्यों कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन जरूरी है, क्यों कोरोना के खिलाफ किसी वरदान से कम नहीं है वैक्सीन?

आपको बता दें कि वैक्सीन लगने के बाद भी कोरोना संक्रमण के कुछ मामले जरूर सामने आ रहे हैं लेकिन एम्स की स्टडी के नतीजे बेहद उम्मीद जगाने वाले हैं। वैक्सीन लेने के बाद संक्रमण की चपेट में आए जिन लोगों पर स्टडी की गई, उनमें से किसी की भी संक्रमण से मौत नहीं हुई। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो,  एम्स की तरफ से की गई स्टडी में वैक्सीन लेने के बाद भी संक्रमित होने वाले लोगों में से किसी की भी अप्रैल से मई के दौरान मौत नहीं हुई। खास बात यह है कि अप्रैल से मई के बीच में ही कोरोना की दूसरी लहर पीक पर थी और बड़ी तादाद में कोरोना मरीजों की मौत हुई थी।

वैक्सीन की दोनों डोज लेने या सिंगल डोज वाली वैक्सीन की एक डोज व्यक्ति अगर कोरोना से संक्रमित हो जाता है, तो इसे ‘ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन’ कहा जाता है। अप्रैल और मई के दौरान एम्स की तरफ से ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन पर की गई पहली स्टडी में पता चला कि वैक्सीन ले चुके कुछ लोगों में वायरल लोड बहुत हाई होने के बावजूद किसी की मौत नहीं हुई।

एम्स ने कुल 63 ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन के मामलों की जीनोम सिक्वेंसिंग के जरिए स्टडी की। इनमें से 36 मरीज वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके थे जबकि 27 ने कम से कम एक डोज। 10 मरीजों ने कोविशील्ड ली थी जबकि 53 ने कोवैक्सीन लगवाई थी। इनमें से किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई।

हाल के समय की 2 और स्टडीज भी काफी उम्मीद जगाने वाली हैं। उसके मुताबिक, ऐसे संकेत मिले हैं कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके लोगों या कोरोना की वैक्सीन ले चुके लोगों को ताउम्र इस वायरस के खिलाफ सुरक्षा मिल सकती है। इसका मतलब यह नहीं कि इन दोनों श्रेणियों के लोग कोरोना से संक्रमित ही नहीं होंगे लेकिन उनके शरीर में इस वायरस से लड़ने वाले एंटीबॉडीज लंबे समय तक मौजूद रहेंगे।

इन स्टडीज में वैज्ञानिकों को पता चला है कि कोरोना से ठीक हो चुके लोगों में कम से कम एक साल तक इसके प्रति इम्युनिटी रह सकती है। कुछ लोगों में यह इम्युनिटी दशकों तक रह सकती है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads