Home आगरा भारतीय सेना की मदद से आठ घंटे में शुरु हुआ बंद पड़ा आगरा का ऑक्सीजन प्लांट, 1700 सिलिंडर प्रतिदिन ऑक्सीजन उत्पादन की क्षमता

भारतीय सेना की मदद से आठ घंटे में शुरु हुआ बंद पड़ा आगरा का ऑक्सीजन प्लांट, 1700 सिलिंडर प्रतिदिन ऑक्सीजन उत्पादन की क्षमता

2 second read
0
202

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

आगरा: कोराना महामारी के दूसरे लहर का कहर लगातार जारी है, देश में सुप्रीम कोर्ट और लगभग देश के सभी राज्यों के हाईकोर्ट के लगातार सुनवाई के बाद भी स्थिति जस की तस बनी हुई है। कोरोना से संक्रमित लोग ऑक्सीजन की कमीं से लगातार अपनी जान गंवा रहे हैं। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए भारतीय सेना को मैदान में लोगो के जीवन को बचाने के लिए उतरना पड़ा है। सेना के इस मुहिम से कुछ उम्मीद जगी है कि लाचार सिस्टम में जान आ जाय।

आपको बता दें कि आगरा के स्थानीय अधिकारियों ने इंडियन आर्मी से एक बंद पड़े ऑक्सीजन संयत्र को चालू करने के लिए मदद का अनुरोध किया था। जिसके बाद भारतीय सेना तुरंत बंद पड़े ऑक्सीजन प्लांट को चालू करने के लिए मोर्चा संभाल लिया। इस अभियान में ईएमई तकनीशियनों की टीम, पैरा ब्रिगेड ने भी मदद किया। युद्ध स्तर पर जारी किये गये काम को 8 घंटे के मशक्कत के बाद सफलतापूर्व चालू किया गया।

शुक्रवार 30 अपैल देर शाम से हवा से आक्सीजन का उत्पादन शुरू हो गया। प्लांट से कोविड और नान कोविड अस्पतालों को गैस की आपूर्ति की जाएगी। टेढ़ी बगिया स्थित अग्रवाल आक्सीजन प्लांट जिले का दूसरा प्लांट है। जो हवा से आक्सीजन तैयार करेगा। इसकी क्षमता 1700 सिलिंडर प्रतिदिन की है। प्लांट का कंप्रेशर खराब होने के चलते यह चालू नहीं हो पा रहा था। डीएम प्रभु एन सिंह ने बताया कि बीते शुक्रवार देर शाम तक प्लांट में आक्सीजन का उत्पादन शुरू हो जाएगा।

आपको बता दें कि आगरा में हर दिन 37.5 टन आक्सीजन की जरूरत होती है। इसके सापेक्ष् हर दिन 10 से 16 टन गैस की आपूर्ति हो रही है।

 

 

 

Load More In आगरा
Comments are closed.