1. हिन्दी समाचार
  2. अयोध्या
  3. आप सांसद संजय सिंह ने CM योगी को लिखा पत्र, घोटाले में शामिल नेताओं को जेल भेजने की मांग की

आप सांसद संजय सिंह ने CM योगी को लिखा पत्र, घोटाले में शामिल नेताओं को जेल भेजने की मांग की

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

अयोध्या: अयोध्या में बन रहे राम मंदिर को लेकर उस वक्त हलचल हो गया था, जब आम आदमी पार्टी के नेता और राज्य सभा सांसद संजय सिंह ने जमीन खरीद में घोटाले का बड़ा आरोप लगा दिया। अब भी राम मंदिर निर्माण के लिए हुए जमीन सौदे को लेकर राजनीतिक विवाद जारी है। जारी विवाद के बीच राम जन्म भूमि परिसर के पास ही नजूल (सरकारी) जमीन को राम मंदिर निर्माण के लिए फ्री में दिलाने और मंदिर के नाम पर करोड़ों की चंदा चोरी का आरोप लगाते हुए संजय सिंह ने मुख्यमंत्री योगी को चिठ्ठी लिखकर घोटाले में शामिल बीजेपी नेताओं और ट्रस्ट के पदाधिकारियों को जेल भेजने की मांग की है। इसके साथ ही आरोपियों से करोड़ों रुपये की वसूली करवाने की भी मांग की गई है।

आपको बता दें कि संजय सिंह ने CM योगी को अयोध्या में जारी विवाद को लेकर एक पत्र लिखा है। इस पत्र में संजय सिंह ने कहा कि अयोध्या में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद हो रहे राम के भव्य मंदिर निर्माण के लिए गठित श्री राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा जमीन खरीद में भारी भ्रष्टाचार और घोटाले का मामला सामने आया है।

उन्होने आरोप लगाया है कि इस जमीन खरीद में भारतीय जनता पार्टी के अयोध्या के मेयर, उनके रिश्तेदारों और ट्रस्ट के पदाधिकारियों के शामिल होने के तमाम दस्तावेज़ मिले हैं, यह भी जानकारी प्राप्त हुई है कि जो जमीन नजूल की अर्थात सरकार की है वह जमीन भी ट्रस्ट द्वारा बीजेपी नेताओं की मिली भगत से करोड़ों में खरीदी गई। उन्होने चिठ्ठी में आगे कहा है कि राम मंदिर के निर्माण के लिए करोड़ों राम भक्तों ने हजारों करोड़ का चंदा भी दिया है लेकिन बीजेपी नेताओं और ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने जिस प्रकार चंदा चोरी की है उससे करोड़ों लोगों की आस्था को गहरी चोट पहुंची है।

उन्होने चिठ्ठि के माध्यम से पूरी प्रक्रिया पर सवाल उठाते हुए अपने पत्र में कहा कि जब यह स्पष्ट हो चुका है की श्री राम जन्म भूमि के आसपास की जमीन नजूल जमीन (सरकारी जमीन) है तो किस आधार पर बीजेपी नेताओं ने सरकारी जमीनों को करोड़ों रुपये में श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को बेची। जब स्वयं अयोध्या के जिलाधिकारी ट्रस्ट के सदस्य हैं, सरकारी जमीने उनके संज्ञान में हैं तो समय रहते करोड़ों की हेराफेरी करने वालों पर कार्रवाई क्यों नहीं की गई, इससे जिलाधिकारी और प्रशासन की भूमिका भी गहरे संदेह के घेरे में है।

उन्होंने कहा कि करोड़ों रुपये का घोटाला करने वाले बीजेपी नेताओं और ट्रस्ट के पदाधिकारियों को जेल भेजा जाए और नजूल (सरकारी) जमीनों को श्री राम मंदिर निर्माण हेतु निःशुल्क दिया जाए।

पत्र में सांसद संजय सिंह ने जमीन खरीद सौदे में घोटाले का जिक्र करते हुए कहा कि ट्रस्ट का गठन हुए करीब डेढ़ साल हो गए, श्री राम का मंदिर निर्माण बीजेपी नेताओं की चंदा चोरी के कारण रुका हुआ है। बीजेपी के मेयर ऋषिकेश उपाध्याय, भांजे दीप नारायण उपाध्याय, समधी का साला रवि मोहन तिवारी, ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय, सदस्य अनिल कुमार मिश्रा आदि ने करोड़ों रुपये का भ्रष्टाचार किया है।

पत्र के माध्यम से सांसद संजय सिंह ने अनुरोध किया कि सभी जमीनों की खरीद में शामिल बीजेपी नेताओं और ट्रस्ट के पदाधिकारियों तथा अन्य शामिल लोगों के बैंक खाते की जांच कराकर, उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर, उनके द्वारा किए गए करोड़ों के भ्रष्टाचार की उनसे वसूली की जाए। इसके साथ में मंदिर निर्माण के लिए नजूल (सरकारी) जमीन निःशुल्क में उपलब्ध कराई जाए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads