Home विदेश अमेरिका के एक विश्वविद्यालय ने पेटेंट को लेकर भारतवंशी प्रोफेसर अशिम मित्रा के खिलाफ ढाई साल पहले दर्ज मुकदमे में समझौता कर लिया

अमेरिका के एक विश्वविद्यालय ने पेटेंट को लेकर भारतवंशी प्रोफेसर अशिम मित्रा के खिलाफ ढाई साल पहले दर्ज मुकदमे में समझौता कर लिया

1 second read
0
5

वाशिंगटन: प्रोफेसर मित्रा पर एक छात्र की रिसर्च को चुराने और उसको एक दवा कंपनी को बेचने का आरोप था। प्रोफेसर मित्रा अमेरिका के मिसौरी विश्वविद्यालय के कंसास कैम्पस में प्रोफेसर थे। आरोप था कि उन्होंने दवा कंपनी को डेढ़ मिलियन डॉलर में रिसर्च को बेच दिया था। उस पर उनको 10 मिलियन डॉलर रॉयल्टी भी प्राप्त हुई थी।

विश्वविद्यालय का कहना था कि पेटेंट पर छात्र या प्रोफेसर का नहीं विश्वविद्यालय का अधिकार होता है। विश्वविद्यालय ने एक बयान जारी करते हुए कहा है कि उसने प्रोफेसर अशिम मित्रा के साथ ढाई साल पुराने दावे को सुलझा लिया है। विश्वविद्यालय ने अपने पेटेंट के दावे को वापस ले लिया है। समझौते की शर्तो के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है। ज्ञात हो कि प्रोफेसर मित्रा पर पूर्व में छात्रों से घर पर नौकरों की तरह काम कराने के आरोप भी लगे थे। मिसौरी-कंसास सिटी विश्वविद्यालय में 26 साल से काम कर रहे प्रोफेसर अशीम मित्रा पर उनके छात्रों ने सामाजिक कार्यक्रमों में उपकरण और टेबल को ढोने का आरोप लगाया है।

उनके पूर्व छात्र कामेश कुचिमांची ने बताया था कि उन्होंने विश्‍वविद्यालय में अपने जीवन को आधुनिक गुलामी से ज्यादा कुछ नहीं माना। प्रोफेसर मित्रा के पूर्व सहयोगियों ने बताया कि उन्होंने छात्रों को कैंपस के बाहर नौकर की तरह काम करते देखा या उनकी शिकायतों को सुना। उनके सहयोगियों ने उनसे बार-बार कहा कि उनके कार्य अनुचित हैं, फिर भी कोई बदलाव नहीं आया।

Load More In विदेश
Comments are closed.