Home क्राइम 67 सालों में पहली बार अमेरिका में दी जायेगी एक महिला को मौत की सजा, जानें इसका कारण

67 सालों में पहली बार अमेरिका में दी जायेगी एक महिला को मौत की सजा, जानें इसका कारण

2 second read
0
333
america

नई दिल्ली: अमेरिकी सरकार के 67 साल के इतिहास में पहली बार एक महिला को सजा-ए-मौत की सजा सुनाई जायेगी। लीजा मोंटगोमरी नामक इस महिला पर आरोप है कि अमेरिका के मिसूरी में रहने वाली एक गर्भवती महिला की हत्या कर उसके गर्भ से बच्चा निकालकर अपने कब्जे में ले लिया है। इस मामले में अमेरिकी सर्वोच्च अदालत ने महिला की मौत की सजा पर रोक लगाने वाली याचिका को खारिज कर महिला की मौत की सजा का रास्ता साफ कर दिया है।

जिसके बाद अमेरिकी सरकार ने लीजा मोंटगोमरी को मौत की सजा दिए जाने की सारी तैयारियां पूरी कर ली है। दोषी महिला को इंडियाना के तेर्रे हाउते के एक केंद्रीय कारागार में मौत की सजा दी जायेगी। इस महिला के मौत की सजा पर अमेरिका में राजनीति भी तेज हो गई है। गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ये चाहते हैं कि उनके कार्यकाल में किसी महिला को फांसी ना हो, जिससे उनके नाम पर यह रिकॉर्ड बन सकें। वहीं अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन मौत की सजा के खिलाफ हैं।

ट्रंप सरकार पर आरोप है कि वह इस मौत की सजा को गैर-कानूनी ढ़ंग से आगे बढ़ाना चाहते हैं। इस मामले के जज ने बताया कि ट्रंप प्रशासन चाहता है, महिला के मौत की सजा ट्रंप के शासन काल के दौरान न हो। उसे जो बाइडेन के शासन में सजा मिले। अमेरिका में किसी भी मौत के सजा वाले कैदी को फांसी देने के 20 दिन पहले ही बता दिया जाता है। इस मामले में अगर न्याय विभाग जनवरी में तारीख को फिर से निर्धारित करती है तो इस मतलब 20 तारीख को महिला को फांसी जो बाइडेन के शपथ के बाद ही होगी।

Load More In क्राइम
Comments are closed.