Home क्राइम फंदे से झूल कर महिला ने की खुदकुशी, मां के शव पर खेलते रहे जुड़वा बच्चे, आवाज ना सुनकर रोने लगे, फिर…

फंदे से झूल कर महिला ने की खुदकुशी, मां के शव पर खेलते रहे जुड़वा बच्चे, आवाज ना सुनकर रोने लगे, फिर…

2 second read
0
144

नई दिल्ली : सुबह उठकर दोनों बच्चे मां के साथ खेल रहे थे, लेकिन उन्हें जब कोई जवाब नहीं मिला तो वो रोने लगे। क्योंकि उन दो अबोध बच्चों को क्या मालूम था कि अब उसकी मां इस दुनिया में नहीं रही। यह खबर है झाऱखंड की राजधानी रांची के सेक्टर 6 थाना क्षेत्र के 6-B आवास संख्या 1018 की है। आपको बता दें कि 31 वर्षीय पुनीत देवी अपने रेलवे एम्प्लॉई पति और बच्चों के साथ यहां रह रही थी। महिला का पति सूरज प्रकाश बोकारो रेलवे स्टेशन में ग्रुप डी की नौकरी करते हैं। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है।

जानकारी के मुताबिक, पुनिता देवी अपने पति और सास के साथ यहां रह रही थी। उसके डेढ़ साल के दो जुड़वा बच्चे हैं। जिसमें एक लड़का और एक लड़की है। बताया जा रहा है कि पति रात में ड्यूटी करने बोकारो रेलवे स्टेशन गया हुआ था। आज सुबह बच्चे उठ कर अपनी मां के साथ खेल रहे थे। इसी दौरान बूढ़ी सास सुबह टहलने के लिए बाहर निकल गई। जब पति रेलवे स्टेशन से लौटा तो बच्चों के रोने की आवाज सुनाई दी। जब उसने दरवाजा खटखटाया तो अंदर से कोई जवाब नहीं मिला और दरवाजा अंदर से बंद था।

जिसके बाद किसी तरह दरवाजा को खोला गया लेकिन जो दृश्य उसने दरवाजा खुलते ही अपने कमरे का देखा, उसे देखकर उसके होश उड़ गये। उसने देखा की सामने उसकी पत्नी का शरीर एक फंदे से झूल रहा है, जिसमें प्राण नहीं है। आनन-फानन में पड़ोसियों की सहायता से शव को उतारा गया और इसकी सूचना स्थानीय थाना को दी गई। दोनों अबोध बच्चे मां के ऊपर लिपट कर किसी अनहोनी से अनजान खेलते नजर आ रहे थे। जब मां उन्हें कोई जवाब नहीं देती दिखी तो बच्चे रोने लगे। इस तस्वीर को देखकर सभी की आंख में आंसू छलक आए। पति और सास का रो-रो कर बुरा हाल है।

मौके पर पहुंचे सेक्टर 6 थाना के एसआई विक्रांत मुंडा ने बताया कि प्रथम दृष्टया यह मामला आत्महत्या कर लग रहा है। मृतक के पति ड्यूटी करने रेलवे स्टेशन गए हुए थे। मृतका के परिजनों का आने का इंतजार है। उसके बाद मामले की जांच होने के बाद ही पूरी घटना की बात सामने आ सकती है।

Load More In क्राइम
Comments are closed.