1. हिन्दी समाचार
  2. बिज़नेस
  3. UPI पेमेंट से आप हो सकते है कंगाल! अगर आप भी कर रहे हैं ये 5 गलतियां तो हो जाएं सतर्क; पढ़ें पूरी खबर

UPI पेमेंट से आप हो सकते है कंगाल! अगर आप भी कर रहे हैं ये 5 गलतियां तो हो जाएं सतर्क; पढ़ें पूरी खबर

UPI payment can make you pauper! If you are also doing these 5 mistakes then be alert; UPI पेमेंट से आप हो सकते है कंगाल, जरूर बरते ये सावधानियां। अगर आप भी कर रहे हैं ये 5 गलतियां तो हो जाएं सतर्क। UPI पेमेंट के दौरान बरते ये सावधानियां।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

नई दिल्ली : देश में जारी कोरोना महामारी के बीच पिछले कुछ सालों में ऑनलाइन या डिजिटल लेनदेन में कई गुना वृद्धि हुई है। जिससे अब हर कोई डिजिटल लेन-देन का आदी हो गया है। शायद ही ऐसा कोई शख्स हो जिसने स्मार्टफोन के जरिए डिजिटल पेमेंट ना किया हो। लेकिन देखने में ये जितना आसान लगता है, कभी-कभी उतना ही खतरनाक भी साबित हो सकता है। इसके लिए आपको सतर्क रहने की जरूरत है।

हम सभी जानते हैं कि ऑनलाइन लेनदेन के बढ़ने से साइबर धोखाधड़ी भी बढ़ी है। मोहल्ले की किराना दुकान हो, सब्जी का ठेला हो या फिर बड़ा मॉल, आजकल हर जगह ऑनलाइन पेमेंट की सुविधा मौजूद है। बस कोड स्कैन करिए और फटाफट से पेमेंट करिए, लेकिन अगर आप कोई भी डिजिटल पेमेंट ऐप (चाहे गूगल पे हो या फोन पे या फिर पेटीएम) यूज कर रहे हैं, तो आपके लिए नीचे बताई गईं बातों को ध्यान में रखना बेहद जरूरी हो जाता है। नहीं तो आपको कंगाल होने में देर नहीं लगेगी।

पढ़े ये पांच तरीके से जिससे आप कंगाल होने से बच सकते है:-

UPI एड्रेस कभी भी शेयर न करें

सबसे महत्वपूर्ण सेफ्टी टिप है UPI अकाउंट/एड्रेस को सुरक्षित रखना। आपको कभी भी अपना यूपीआई आईडी/एड्रेस किसी के साथ शेयर नहीं करना चाहिए। आपका यूपीआई एड्रेस आपके फोन नंबर, क्यूआर कोड या वर्चुअल पेमेंट एड्रेस (वीपीए) के बीच कुछ भी हो सकता है। आपको किसी भी भुगतान या बैंक एप्लिकेशन के माध्यम से किसी को भी अपने यूपीआई अकाउंट तक पहुंचने की अनुमति नहीं देनी चाहिए।

एक मजबूत स्क्रीन लॉक सेट करें

सभी भुगतान या वित्तीय लेनदेन ऐप के लिए एक मजबूत स्क्रीन लॉक सेट करना होगा। यदि आप Google Pay, PhonePe, Paytm, या किसी अन्य प्लेटफॉर्म का उपयोग करते हैं, तो एक मजबूत पिन सेट करना महत्वपूर्ण है, जो आपकी जन्म तिथि या वर्ष, मोबाइल नंबर के अंक या कोई अन्य नहीं होना चाहिए। आपको अपना पिन किसी के साथ शेयर नहीं करना चाहिए और यदि आपको संदेह है कि आपका पिन उजागर हो गया है, तो इसे तुरंत बदल दें।

अनवेरिफाइड लिंक पर क्लिक न करें

यूपीआई स्कैम एक आम तकनीक है जिसका इस्तेमाल हैकर यूजर्स को फंसाने के लिए करते हैं। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि हैकर्स आमतौर पर लिंक शेयर करते हैं या कॉल करते हैं और उपयोगकर्ताओं को वेरिफिकेशन के लिए एक थर्ड-पार्टी ऐप डाउनलोड करने के लिए कहते हैं। आपको कभी भी ऐसे लिंक पर क्लिक नहीं करना चाहिए और न ही पिन या किसी अन्य जानकारी को किसी के साथ शेयर करना चाहिए। बैंक कभी भी पिन, ओटीपी या कोई अन्य पर्सनल डिटेल नहीं मांगते हैं, इसलिए, मैसेज या कॉल पर ऐसी जानकारी मांगने वाला कोई भी व्यक्ति आपकी डिटेल और पैसा चुराना चाहता है। ऐसे मामलों में आपको सतर्क रहना चाहिए।

एक से अधिक ऐप का उपयोग करने से बचें

एक से अधिक UPI या ऑनलाइन भुगतान ऐप का उपयोग न करने की सलाह दी जाती है। कई डिजिटल भुगतान ऐप हैं जो यूपीआई लेनदेन की अनुमति देते हैं, इसलिए, आपको यह देखना होगा कि कौन सा ऐप कैशबैक और पुरस्कार जैसे बेहतर लाभ प्रदान करता है, और उसी के अनुसार अपनी पसंद बनाएं।

UPI ऐप को नियमित रूप से अपडेट करें

यह सभी ऐप्स के लिए बिना कहे चला जाता है। UPI पेमेंट ऐप समेत प्रत्येक ऐप को लेटेस्ट वर्जन में अपग्रेड किया जाना चाहिए क्योंकि नए अपडेट बेहतर UI और नई सुविधाएं और लाभ लाते हैं। अपडेट अक्सर बग फिक्स भी लाते हैं। ऐप्स को लेटेस्ट वर्जन में अपग्रेड करने से आपका अकाउंट भी सेफ रहता है और सुरक्षा उल्लंघनों की संभावना कम होती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...