1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के आदेश पर लगाई रोक, अब UP में बजा सकेंगे DJ

सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के आदेश पर लगाई रोक, अब UP में बजा सकेंगे DJ

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के एक आदेश पर रोक लगा दी है। जिससे अब उत्तर प्रदेश में DJ बजाया जा सकेगा। गुरुवार 15 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाई कोर्ट को DJ बजाने के पाबंदी वाले आदेश पर रोक लगा दी है। तीन साल पहले इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए राज्य में DJ बजाने पर प्रतिबंध लगा दिया था।  

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले पर कहा कि हाई कोर्ट का आदेश जिस याचिका पर जारी हुआ, उसमें DJ पर रोक लगाने की मांग ही नहीं की गई थी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हाईकोर्ट में दाखिल याचिका में सिर्फ एक इलाके में DJ से होने वाले शोर से राहत की मांग की गई थी। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि हाई कोर्ट ने बिना प्रभावित पक्ष को सुने ही व्यापक आदेश पारित कर दिया।

साल 2019 में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने पूरे राज्य में DJ बजाने पर प्रतिबंध लगा दिया था। प्रयागराज के रहने वाले सुशील कुमार ने साल 2019 में कावड़ यात्रा के दौरान इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका लगाकर आए दिन डीजे बजाने की वजह से ध्वनि प्रदूषण और नागरिकों को होने वाली परेशानी से निजात दिलवाने की गुहार लगाई थी।

सुशील ने अपनी याचिका में अपने प्रयागराज के हाशिम पुर स्थित घर के पास कांवड़ शिविर लगने और एलसीडी स्क्रीन पर भोर चार बजे से आधी रात तक बजने वाले कानफाडू गानों से अपनी बुजुर्ग मां और अन्य परिजनों को होने वाली परेशानी का ब्योरा दिया था। इस पर हाईकोर्ट ने पूरे राज्य में डीजे बजाने पर पाबंदी लगा दी थी।

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने इस मामले में सभी जिलाधिकारियों को इस पर अमल सुनिश्चित करने का आदेश दे दिया था। इसके बाद हाई कोर्ट के इस आदेश के खिलाफ राज्य के करीब दर्जन भर DJ वालों ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी। सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षों को सुनने के बाद ये कहा कि इस आदेश से डीजे वालों के आजीविका के बुनियादी अधिकार का हनन हुआ है डीजे का लाइसेंस रखने वाले अब नियमों के तहत डीजे बजा सकते हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads