Home क्राइम मुठभेड़ में 24 जवानों के शहीद होने के बाद सरकार से बातचीत को तैयार नक्सली, कहा जवान हमारे दुश्मन नहीं…

मुठभेड़ में 24 जवानों के शहीद होने के बाद सरकार से बातचीत को तैयार नक्सली, कहा जवान हमारे दुश्मन नहीं…

1 second read
0
1,267

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

रायपुर: छत्तीसगढ़ के बीजापुर-सुकमा बॉर्डर पर शनिवार 3 अप्रैल को नक्सलियों के साथ हुई मुठभेड़ में 24 जवान शहीद हो गये। जिसके बाद केंद्र सरकार से लेकर राज्य की सरकार भी हिल गई। इस मुठभेड़ में जब 24 जवानों ने अपनी शहादत देने के बाद माओवादी सरकार से बातचीत के लिए राजी हो गये हैं। इस दौरान नक्सलियों ने बताया कि इस मुठभेड़ में 31 पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं।

आपको बता दें कि मुठभेड़ मे सुरक्षाबलों ने 15 नक्सलियों को मारे जाने की पुष्टी की है, जबकि माओवादियों ने दावा किया है कि उनके 4 लोग मारे गये हैं। हमले में नक्सलियों ने कोबरा बटालियन के एक जवान राकेश्वर सिंह मनहार को अपने कब्जे में रख लिया है। जिसके बाद एक पत्र जारी कर सरकार से बातचीत की इच्छा जताई है। नक्सलियों ने यह भी लिखा कि वे जवानों के दुश्मन नहीं हैं। उसे रिहा कर दिया जाएगा और वो सुरक्षित है।

नक्सलियों ने चित्र में जिस हथियार को दिखाय़ा है, दावा किया है कि ये हथियार शहीद जवानों के है। नक्सलियों का कहना है कि ये हथियार उन्होंने लूटे हैं। इस घटना के बाद नक्सलियों के संगठन भारत की कम्युनिस्ट पार्टी(माओवादी) की दण्डकारण्य स्पेशल जोनल कमेट ने 6 अप्रैल को 2 पत्रों का लेटर जारी किया है।

इस पत्र में लिखा है कि 3 अप्रैल को बस्तर आईजी सुंदरराज पी के नेतृत्व में सुकमा-बीजापुर जिलो के गांव पर भारी हमला करने के लिए 2000 पुलिस बल आ गए थे। इस हमले की प्लानिंग अगस्त, 2020 में नई दिल्ली में अमित शाह के नेतृत्व में बनी थी। बता दें कि 3 अप्रैल को हुए हमले के बाद अमित शाह अपना चुनावी दौरा छोड़कर छत्तीसगढ़ पहुंचे थे और घटना पर विस्तार से चर्चा की थी। माना जा रहा है कि अमित शाह के निर्देश पर टॉप नक्सलियों की लिस्ट तैयार की गई है।

नक्सलियों ने खत में आगे लिखा कि उन्होंने मुठभेड़ के बाद जवानों के 14 हथियार और 2000 से ज्यादा कारतूस लूटे। इसमें उनके ओड़ी सन्नी, कोवासी बदरू, पदाम लखमा, माड़वी सुक्खा व नूपा सुरेश मारे गए। इनमें से नक्सली सन्नी का शव वे नहीं ले सके। नक्सलियों ने कहा कि वे बातचीत को राजी हैं, लेकिन सरकार ईमानदार नहीं है।

Load More In क्राइम
Comments are closed.