Home दिल्ली बढ़ रहे कोरोना संक्रमण से सरकार की बढ़ी चिंता, कम पड़ रहे बेड और उपकरण

बढ़ रहे कोरोना संक्रमण से सरकार की बढ़ी चिंता, कम पड़ रहे बेड और उपकरण

0 second read
0
1

नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना के मामले लगातार तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। पिछले 24 घंटे में 1904 संक्रमण के नए मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही दिल्ली के बड़े प्राइवेट अस्पतालों में वेंटिलेटर और आईसीयू बेड़ पूरी तरह मरीजों से भर चुके है। स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली में बेड की उपलब्धता की समीक्षा करेंगे और बेड्स का इंतज़ाम किया जाएगा।

उन्होने आगे कहा कि  सरकारी अस्पतालों में बहुत सारे आईसीयू और वेंटिलेटर अभी खाली हैं, प्राइवेट में भी दो या तीन अस्पतालों में कमी हुई है, उसमें भी आज इंतज़ाम कर दिया जाएगा। सत्येन्द्र जैन ने कहा कि दिल्ली में प्राइवेट अस्पतालों में जो आईसीयू और वेंटिलेटर बेड की कमी देखने को मिल रही है। कमी का कारण दिल्ली में बढ़ते मामलों और बाहरी राज्यों से आ रहे लोगों की वजह है।

केंद्र सरकार के नोर्थर्न रेलवे अस्पताल में एक भी वेंटिलेटर वाले आईसीयू बेड उपलब्ध नहीं हैं। यहां कुल वेंटिलेटर वाले आईसीयु बेड्स की संख्या 10 है। और सभी बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती है। वहीं ओखला के होली फैमिली अस्पताल में वेंटिलेटर वाले 3 आईसीयू बेड ही उपलब्ध हैं। यहां कुल वेंटिलेटर वाले आईसीयू बेड्स की संख्या 8 है। द्वारा के वेंकेटेश्वर अस्पताल, शालीमार बाग के फॉर्टिस अस्पताल और मैक्स अस्पताल में एक भी वेंटिलेटर वाले आईसीयू बेड उपलब्ध नहीं है। इन तीनों अस्पतालों में वेंटिलेटर वाले आईसीयू बेड्स की संख्या 5 है और सभी 15 बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं।

पंजाबी बाग के महाराजा अग्रसेन, वसंत कुंज के स्पाइनल इंजरी सेंटर अस्पताल में एक भी वेंटिलेटर वाले आईसीयु बेड उपलब्ध नहीं है। इन दोनों अस्पतालों में कुल वेंटिलेटर वाले आईसीयू बेड्स की संख्या 4 है और सभी 8 बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं।

दिल्ली सरकार के बाबा अंबेडकर अस्पताल में एक भी आईसीयु बेड उपलब्ध नहीं है। यहां कुल आईसीयू बेड्स की संख्या 9 है और सभी बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं।

सरिता विहार के अपोलो अस्पताल में एक भी आईसीयू बेड उपलब्ध नहीं है। यहां कुल आईसीयू बेड्स की संख्या 24 है और सभी बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं। पश्चिम विहार स्थित श्री बालाजी अस्पताल में एक भी आईसीयू बेड उपलब्ध नहीं है। यहां कुल आईसीयू बेड्स की संख्या 21 है और सभी बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं। पंजाबी बाग के महाराजा अग्रसेन अस्पताल में एक भी आईसीयू बेड उपलब्ध नहीं है। यहां कुल आईसीयू बेड्स की संख्या 18 है और सभी बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं। शालीमार बाग के मैक्स अस्पताल में एक भी आईसीयू बेड उपलब्ध नहीं है।

आपको बता दें कि दिल्ली सरकार के दिल्ली कोरोना ऐप में मंगलवार 30 मार्च सुबह 11 बजे तक कोरोना मरीज़ों के लिए कुल 5797 बेड्स हैं, जिसमें से अभी केवल 1604 पर मरीज़ भर्ती हैं, जबकि 4193 बेड्स खाली हैं। वहीं, दिल्ली में सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में कुल 785 वेंटिलेटर युक्त आईसीयू बेड है, जिसमें से 255 पर मरीज़ भर्ती हैं, 530 बेड्स खाली हैं। साथ ही बिना वेंटीलेटर वाले कुल आईसीयू बेड की संख्या 1225, इनमें से 372 बेड्स पर मरीज़ भर्ती हैं जबकि 853 बेड्स खाली हैं।

Load More In दिल्ली
Comments are closed.