1. हिन्दी समाचार
  2. भाग्यफल
  3. Chanakya Niti : अगर आपने आचार्य चाणक्य की मान ली ये बात तो आपको कभी भी नहीं मिलेगी असफलता

Chanakya Niti : अगर आपने आचार्य चाणक्य की मान ली ये बात तो आपको कभी भी नहीं मिलेगी असफलता

सुख और दुख, सफलता और असफलता, जीवन के ये दो वो चक्र है, जिनका आना-जाना लगा रहता है। लेकिन अगर आप आचार्य चाणक्य(Chanakya Niti) की ये बात मान लेते है, तो आपके आस-पास भी असफलता भटकती नजर नहीं आयेगी। और आपके हर कदम सफलता की ओर बढ़ेंगे। इसके साथ ही आप उन ऊंचाईयों को भी छुएंगे, जिसकी आप ख्वाहिश रखते है।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : सुख और दुख, सफलता और असफलता, जीवन के ये दो वो चक्र है, जिनका आना-जाना लगा रहता है। लेकिन अगर आप आचार्य चाणक्य(Chanakya Niti) की ये बात मान लेते है, तो आपके आस-पास भी असफलता भटकती नजर नहीं आयेगी। और आपके हर कदम सफलता की ओर बढ़ेंगे। इसके साथ ही आप उन ऊंचाईयों को भी छुएंगे, जिसकी आप ख्वाहिश रखते है।

आचार्य चाणक्या का वो गूढ़ मंत्र :-

‘जो व्यक्ति जीवन में समय का ध्यान नहीं रखता है, उसके हाथ असफलता और पछतावा ही लगता है।’ आचार्य चाणक्य

आचार्य चाणक्य का कहना है कि हर व्यक्ति को समय की कीमत जाननी चाहिए। जो व्यक्ति समय का मूल्य नहीं समझता उसके हाथ असफलता और पछतावा ही लगता है। असल जिंदगी में कई बार ऐसा होता है कि मनुष्य को वक्त पर जो कार्य करना चाहिए उसे नहीं करता। उसे ऐसा लगता है कि उस काम को कल या फिर आने वाले कुछ दिनों के अंदर कर लेंगे। ऐसा व्यक्ति जीवन में सिर्फ और सिर्फ खाली हाथ ही रह जाता है।

वक्त किसी के लिए रुकता नहीं है। मनुष्य को हमेशा वक्त के साथ कदम से कदम मिलाकर चलना- सीखना होगा। अगर आप चाहे कि आपके लिए वक्त फिर से वापस लौट आएगा तो ये आपकी सबसे बड़ी भूल है। आप कभी भी बीते हुए वक्त को वापस नहीं ला सकते हैं। उदाहरण के तौर पर किसी का भी बचपन कभी भी वापस नहीं आ सकता। बचपन की यादें आपके मन में हमेशा समा सकती हैं। लेकिन अगर आप चाहे तो भी वो बचपन वापस नहीं लौट सकता है। ऐसा होना असंभव है। इसी वजह से आचार्य चाणक्य ने कहा कि हर काम को प्राथमिकता के आधार पर करना चाहिए। अगर आपने काम को उसकी प्राथमिकता के आधार पर नहीं किया तो आपका ही नुकसान होगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...