Home ताजा खबर दिल्ली में फिर बढ़ा कोरोना का कहर , बाज़ार , मेट्रो और धार्मिक स्थल बनें ‘सुपर स्प्रेडर’

दिल्ली में फिर बढ़ा कोरोना का कहर , बाज़ार , मेट्रो और धार्मिक स्थल बनें ‘सुपर स्प्रेडर’

4 second read
1
75

 रिपोर्ट – माया सिंह

दिल्ली : देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस का कह़र एक बार फिर बढ़ते नज़र आ रहा है । वहीं भीड़ वाले इलोकों पर सख्ती बढा दी गई है । कोरोना के नए मामलों में बढ़ोत्तरी को देखते हुए सरकार ने एक आदेश जारी किया है , जिसमें दिल्ली के वीकली बाज़ार, सिनेमा हॉल, मॉल, मेट्रो और धार्मिक स्थल ‘सुपर स्प्रेडर’ बताया गया  है ।

दरअसल, आदेश में कहा गया है कि दिल्ली में करीब 15 दिनों से कोरोना संक्रमण के नए मामलों में लगातार बढ़ोत्तरी दर्ज हो रही है । लेकिन भीड़ वाले इलाकों में  कोविड-19 के नियम का पालन बिल्कुल भी नहीं किया जा रहा है । लोग बेखौफ घूम रहे हैं,  इससे एजेंसियों की जिम्मेदारी बढ़ गई है । हालात पहले की तरह फिर से नाजुक नहीं हो इसके लिए सरकार अलर्ट हो गई है ।

दिल्ली के सभी जिला अधिकारियों को ‘TOP MOST PRIORITY’ के तहत पर्सनल मॉनिटरिंग का आदेश दिया गया है । इसके अलावा इस आदेश में कहा गया है कि सभी सुपर स्प्रेडर वाले इलाकों में कोविड निर्देश और SOP का सख़्ती से पालन कराने के साथ ही कम सीरो सर्विलेंस वाले इलाकों पर ख़ास निगरानी रखा जाए ।

आपको बता दें कि दिन मंगलवार को बीते 24 घंटे के अंदर कुल 1,101 नए मामले सामने आए है और 4 लोगों की मौत हो गई । कोरोना के बढ़ते रफ्तार को देखते हुए  दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने सार्वजनिक स्थानों पर होली, शब-ए-बारात, नवरात्रि मनाने पर और किसी भी सार्वजनिक स्थान पर लोगों के इकट्ठा होने पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी है ।

इतना ही नहीं कोरोना के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए सरकार ने रैंडम टेस्टिंग बढ़ा दी है । दूसरे राज्य से दिल्ली आने वाले लोगों की रैंडम टेस्टिंग होगी । यह टेस्टिंग टेस्टिंग दिल्ली के एयरपोर्ट रेलवे स्टेशन, बस अड्डों के साथ ऐसे पॉइंट पर भी होगी, जहां प्राइवेट बसों का जमावड़ा लगता है ।

जानकारी के लिये बताते चलें कि नवम्बर के बाद 19 दिसंबर को 1139 नए मामले आए थे । इसके बाद 23 मार्च को सबसे अधिक आकड़े दर्ज किये गये है वहीं एक्टिव केस की संख्या भी 4 हजार पार कर चुकी है ।

दिल्ली के अस्पातालों में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से हुई बढ़ोत्तरी भी चिंता की सबसे बड़ी वजह है । गौरतलब है कि 1 मार्च को अस्पतालों में 489 मरीज दाखिल हुए थे , जिनकी संख्या 23 मार्च तक बढ़कर 980 हो गई है । वहीं कुल केसेज की बात करें तो यहां अबतक 6,49,973 केस हो चुके हैं जबकि कुल 6,34,595 मरीज ठीक भी हुए हैं और 10,967 मौतें हो चुकी हैं ।

Load More In ताजा खबर
Comments are closed.