Home Madhya Pradesh सावधान ! MP की लूटेरी दुल्हनें 5 महीने में 10 घरों को बना चुकी है निशाना

सावधान ! MP की लूटेरी दुल्हनें 5 महीने में 10 घरों को बना चुकी है निशाना

0 second read
0
60

रिपोर्ट- पल्लवी त्रिपाठी

मध्य प्रदेश : आपने फिल्मों में लूटेरी दुल्हनों के बारे में जरूर सुना होगा । लेकिन क्या आपने कभी असल में लूटेरी दुल्हनों के बारे में सुना है। जी हां, एक ऐसा ही मामला सामने आया है । जहां लूटेरी दुल्हनों ने देश के दिल मध्य प्रदेश का दिल और चैन, सबकुछ चुरा रखा है ।

आपको जानकर हैरानी होगी कि एमपी में 1 या 2 लूटेरी दुल्हनें नहीं है, बल्कि इनका गिरोह है । बताया जा रहा है कि केवल मध्य प्रदेश में लूटेरी दुल्हनों के 25 से ज्यादा गैंग सक्रीय हैं । इस मामले का खुलासा तब हुआ, जब इनमें से एक लूटेरी दुल्हन ने खंडवा क्षेत्र के एक लड़के को अपने जाल में फंसाया ।

दरअसल, खंडवा के रहने वाले पीड़ित दूल्हे विकास के भाई नितिन ने बताया कि घरवालों को विकास की शादी की चिंता थी । जिसके लिए उन्होंने रजिया नाम की दलाल से संपर्क किया । रजिया ने औरंगाबाद की रमा नाम की लड़की के बारे में बताया, लेकिन साथ में 50,000 रुपये की मांग की । विकास के परिजन उसकी बढ़ती उम्र को देखते हुए शर्त मान गए । जिसके बाद दोनों की धूमधाम से शादी हुई । लेकिन सुहागरात पर आरोपी रमा घऱ में मौजूद तमाम गहने और नगदी लेकर फरार हो गयी ।

घटना की सूचना मिलने पर पुलिस ने छानबीन शुरू कर दी । जिसके बाद मध्य प्रदेश के खंडवा, सागर, बड़वानी से लूटेरी दुल्हनों को गिरफ्तार कर लिया । पूछताछ में उन्होंने बताया कि वो अब तक 4 से 5 शादियां कर चुकी है । यानी इतने ही दुल्हें लूट चुकी है ।

खंडवा के पुलिस अधीक्षक विवेक सिंह का कहना है कि पीड़ित लोग रिपोर्ट दर्ज नहीं कराते और ये बात पुलिस के लिए परेशानी का सबब बन जाती है । लुटेरी दुल्हन के शिकार बने लोग इज्जत जाने और जग हंसाई के डर से पुलिस के पास नहीं जाते . लुटेरी दुल्हनों का जाल कई राज्यों में फैला है । एक राज्य में वारदात को अंजाम देकर ये दूसरे राज्य में पहुंच जाती है । दो राज्यों की पुलिस में तालमेल न होने के चलते ये लगातार कई वारदात को अंजाम देने में कामयाब रहते हैं । लुटेरी दुल्हनों या गिरोह लोगों की उस मानसिकता का फायदा उठता हैं । जिसमें शादी में देरी होने या शादी नहीं होने को भी इज्जत से जोड़ कर देखा जाता है ।

Load More In Madhya Pradesh
Comments are closed.