Home दिल्ली बिहार के बाहुबली RJD नेता शहाबुद्दीन की हालत गंभीर, जेल प्रशासन ने निधन की खबर का किया खंडन

बिहार के बाहुबली RJD नेता शहाबुद्दीन की हालत गंभीर, जेल प्रशासन ने निधन की खबर का किया खंडन

2 second read
0
592

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

नई दिल्ली: कोरोना के दूसरे लहर का कहर लगातार जारी है, महामारी से संक्रमित होकर लोगो के जान गंवाने का ऑकड़ा भी दिन पर दिन बढ़ता ही जा रहा है। शुक्रवार मीडिया जगत के लिए एक पहाड़ जैसा दिन बन गया था। मीडिया जगत ने महामारी के कारण एक और चमकता सितारा खो दिया। तेज तर्राक पत्रकार रोहित सरदाना की मौत की खबर देश को विश्वास ही नहीं दिला पा रही थी, कि ये खबर सच है। लेकिन सच के कड़वाहट को तो स्वीकार करना पड़ता है। शनिवार का दिन शुरु ही हुआ है कि संक्रंमण से ग्रसित पूर्व सांसद और RJD नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन की स्थिति गंभीर हो गई है। सोशल मीडिय पर उनके निधन की बात कही जाने लगी।

आपको बता दें कि RJD नेता और सीवान लोकसभा सीट से पूर्व सांसद सैयद शहाबुद्दीन के निधन की खबरें गलत हैं। सोशल मीडिया पर वायरल हो रही शहाबुद्दीन की मौत की खबर पर तिहाड़ जेल प्रशासन ने खंडन किया है। हत्या के मामले में सजा काट रहे बाहुबली शहाबुद्दीन दिल्ली की तिहाड़ जेल में ही बंद है। जेल प्रशासन की ओर से यह भी कहा गया है कि शहाबुद्दीन की तबीयत खराब है।

तिहाड़ जेल के DG ने शहाबुद्दीन के निधन की खबर का खंडन किया है। तिहाड़ जेल प्रशासन ने कहा है कि सोशल मीडिया पर चल रहीं इससे संबंधित खबरें कोरी अफवाह हैं। जेल प्रशासन के मुताबिक शहाबुद्दीन की हालत गंभीर है लेकिन अभी उपचार चल रहा है। पूर्व सांसद का दिल्ली के ही दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में उपचार चल रहा है। कोरोना संक्रमित शहाबुद्दीन के स्वास्थ्य पर डॉक्टर नजर रख रहे हैं।

शहाबुद्दीन का नाम बिहार के बादुबलियों की लिस्ट में आता है। उनको सिवान के लोग खौफनाक तेजाब कांड को लेकर भी याद करते हैं। जब साल 2004 में चंदा बाबू के तीन बेटों गिरीश, सतीश और राजीव का बदमाशों ने अपहरण कर लिया। बदमाशों ने गिरीश और सतीश को तेजाब से नहला कर मार दिया था। जबकि इस मामले का चश्मदीद रहे राजीव किसी तरह बदमाशों की गिरफ्त से अपनी जान बचाकर भाग निकला।

जान बचाकर भागने में कामयाब रहे राजीव भाइयों के तेजाब से हुई हत्याकांड का गवाह बना। लेकिन साल 2015 में शहर के डीएवी मोड़ पर उसकी भी गोली मार कर हत्या कर दी गई। हत्या के महज 18 दिन पहले ही राजीव की शादी हुई थी। इस घटना के बाद पूरे शहर में हड़कंप मच गया था।

 

Load More In दिल्ली
Comments are closed.