Home उत्तराखंड बल्लूपुर चौक से पांवटा साहिब राजमार्ग चौड़ीकरण की सालों पुरानी परियोजना अब नए रूप में धरातल पर उतरेगी

बल्लूपुर चौक से पांवटा साहिब राजमार्ग चौड़ीकरण की सालों पुरानी परियोजना अब नए रूप में धरातल पर उतरेगी

2 second read
0
10

देहरादून: राजधानी देहरादून में बल्लूपुर चौक से पांवटा साहिब राजमार्ग चौड़ीकरण की सालों पुरानी परियोजना अब नए रूप में धरातल पर उतरेगी। मुख्य सड़क तो फोरलेन बनेगी ही, एक नई फोर लेन सड़क का भी निर्माण किया जाएगा। यह सड़क देहरादून-दिल्ली राजमार्ग व दून-पांवटा साहिब राजमार्ग को जोड़ेगी।

परियोजना का निर्माण भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) करेगी। पहले इस परियोजना के निर्माण का जिम्मा राष्ट्रीय राजमार्ग खंड, देहरादून को सौंपा गया था। एनएचएआइ के अधिकारियों के मुताबिक, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने परियोजना को हरी झंडी दे दी है। अब परियोजना की डीपीआर (डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट) बनाने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। बल्लूपुर चौक से पांवटा साहिब के बीच करीब 50 किलोमीटर सड़क को चौड़ा किया जाएगा।

लिहाजा, डीपीआर में जमीन अधिग्रहण को लेकर भी सर्वे किया जाएगा। पूर्व में राजमार्ग खंड देहरादून ने भी निजी व वन भूमि का सर्वे किया था, मगर अब एनएचएआइ इस काम को नए सिरे से करेगी। इसके अलावा दून-दिल्ली राजमार्ग पर आशारोड़ी और दून-पांवटा साहिब राजमार्ग पर झाझरा के बीच 11 किमी नई सड़क का निर्माण किया जाएगा। यह सड़क वनक्षेत्र के बीच से होकर गुजरेगी।

आशारोड़ी और झाझरा के बीच सड़क निर्माण में जितनी भूमि की जरूरत होगी, उसका 50 फीसद वनभूमि है। इस लिहाज से यहां पर सड़क निर्माण में वन भूमि हस्तांतरण की चुनौतियां भी होंगी। हालांकि, सड़क निर्माण के बाद दोनों राजमार्ग के यातायात को काफी लाभ मिलेगा।

बल्लूपुर (दून) से पांवटा साहिब राजमार्ग के बीच फोर लेन सड़क के निर्माण के बाद आवागमन आसान हो पाएगा और विभिन्न स्थानों पर लगने वाले जाम से भी निजात मिल सकेगी। इसके अलावा दिल्ली और पांवटा साहिब राजमार्ग के वाहन लंबे फेरा लिए बिना ही एक दूसरी सड़क से जुड़ सकेंगे। दून शहर के आसपास के इलाकों में भी वाहनों का दबाव कम हो पाएगा। जिस तरह दून का निरंतर विस्तार हो रहा है, उससे झाझरा व शिमला बाईपास रोड क्षेत्र में भी आबादी बसने लगी है। लिहाजा, स्थानीय निवासियों को भी फोर लेन सड़क का लाभ मिल सकेगा।

Load More In उत्तराखंड
Comments are closed.