1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. केंद्र सरकार के प्रस्ताव के अनुसार दिल्ली कैबिनेट ने दी विधायकों के वेतन वृद्धि को मंजूरी, जानिए अब कितने मिलेंगे वेतन

केंद्र सरकार के प्रस्ताव के अनुसार दिल्ली कैबिनेट ने दी विधायकों के वेतन वृद्धि को मंजूरी, जानिए अब कितने मिलेंगे वेतन

मानसून सत्र के शुरू हुए तकरीबन तीन हफ्ते हो गये है, लेकिन अभी तक संसद के दोनों सदनों में किसी सदन में कार्यवाही पूरी नहीं चल सकी है। जिस कारण न सरकार जनहित के लिए कोई चर्चा कर सकी और न कोई ऐसी बिल ला सकीं जो आम जनता के हीत में है। वहीं दूसरी तरफ दिल्ली कैबिनेट ने विधायकों के वेतन वृद्धि को मंजूरी दे दी है।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : मानसून सत्र के शुरू हुए तकरीबन तीन हफ्ते हो गये है, लेकिन अभी तक संसद के दोनों सदनों में किसी सदन में कार्यवाही पूरी नहीं चल सकी है। जिस कारण न सरकार जनहित के लिए कोई चर्चा कर सकी और न कोई ऐसी बिल ला सकीं जो आम जनता के हीत में है। वहीं दूसरी तरफ दिल्ली कैबिनेट ने विधायकों के वेतन वृद्धि को मंजूरी दे दी है।

आपको दिल्ली कैबिनेट ने ये मंजूरी केंद्र सरकार के प्रस्ताव के अनुसार दी है। जिससे अब दिल्ली के विधायकों को अब 30 हजार रुपये प्रति माह वेतन मिलेगा। बता दें कि यह पैसला दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में लिया गया है।

 

फिलहाल दिल्ली के एक विधायक को 54 हजार रुपये महीने मिलते हैं। इसमें वेतन के रूप में 12 हजार रुपये शामिल है और बाकी भत्ते हैं। इसके अलावा, उन्हें दो स्टाफ सदस्यों को भुगतान करने के लिए 30 हजार रुपये प्रति माह मिलते हैं, जिन्हें वे काम पर रख सकते हैं।

इस वृद्धि के साथ ही अब विधायक 90 हजार रुपये प्रति माह पाने के हकदार होंगे। जिसमें वेतन के रूप में 30 हजार शामिल है और भत्ते के रूप में 60 हजार रुपये मिलेंगे। आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने दिल्ली सरकार के उस प्रस्ताव को खारिज कर दिया था, जिसमें दिल्ली के विधायकों का वेतन बढ़ाकर अन्य राज्यों के विधायकों के बराबर करने की बात कही गई थी।

केजरीवाल सरकार ने दिसंबर 2015 में दिल्ली विधानसभा में एक बिल पास कराया था, जिसमें विधायकों का वेतन बढ़ाकर 2.10 लाख रुपये प्रति माह करने का प्रावधान था।

इन राज्यों में इतनी है विधायकों की सैलरी

तेलंगाना – 250000

उत्तराखंड  -198000

हिमाचल प्रदेश -190000

हरियाणा -155000

राजस्थान -142500

बिहार -130000

आंध्रप्रदेश -125000

गुजरात -105000

उत्तर प्रदेश -95000

दिल्ली -90000

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...