Home भाग्यफल जानें क्यों घर में लगाना चाहिए वंदनवार, कौन-सा वंदनवार लगाने से मिलते है शुभ फल

जानें क्यों घर में लगाना चाहिए वंदनवार, कौन-सा वंदनवार लगाने से मिलते है शुभ फल

2 second read
0
114

रिपोर्ट: गीतांजली लोहनी

नई दिल्ली: हिंदू धर्म में यूं तो कई मान्यताएं है लेकिन घर के द्वार यानि दरवाजे पर वंदनवार लगाने की परंपरा काफी पुरानी है। बताते चलें कि वन्दनवार कुछ विशेष पत्तों, या चीज़ों से बनी हुयी झालर होती है। जब भी घर में ग्रह प्रवेश या शुभ काम जैसे शादी ब्याह आदि होता है तो अलग-अलग प्रकार के  वंदनवार दरवाजे के ऊपर लगाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि इसे लगाने से घर में पॉजिटिव एनर्जी बनी रहती है और नकारात्मकता चली जाती है। अब ये तो आप सभी जानते ही है कि घर का मुख्य द्वार ही हमारी सुख,समृद्धि और शांति के रास्ते खोलता है। इसीलिए हिंदु मान्याता के अनुसार घर के मुख्य दरवाजे में हमेशा वंदनवार लगा होना चाहिए ताकि घर में सकारात्मकता बनी रहे। तो चलिए हम आपको बता दें कि किस प्रकार का वंदनवार आपको अपने द्वार के ऊपर लगाना चाहिए-

वैसे तो हिंदू धर्म में मान्यता है कि मुख्य द्वार के ऊपर आम के पत्तों का वंदनवार लगाने से वंशवृद्धि होती है। इसे अक्सर दीपावली के दिन दरवाजें के ऊपर बांधा जाता है। हालांकि इसे हमेशा बांधकर रखना शुभफलदायी है। आम के पत्तों के वंदनवार से घर में खुशहाली बनी रहती है।

अशोक के पत्तों का भी वंदनवार बनाया जाता है। अशोक के पत्तों का वंदनवार चौखट पर लटकाने से घर में आर्थिक संपन्नता आती है।

अगर आपको महसूस होता है कि आपके घर में किसी ने कुछ किया कराया है तो आप पीली कौड़ी या सीप से बना वंदनवार अपने घर के दरवाजे के ऊपर लगाये इससे किसी भी प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा का असर आपके घर में कभी नहीं होगा।

अगर आपके घर में रोग प्रवेश कर चुका है यानि घर में अगर लोग ज्यादा बिमार रहने लगे है तो अपने घर के द्वार में नारियल के रेशों के वंदनवार को लगाये इससे घर में कर्ज और सभी तरह के रोग दूर होते हैं।

और अगर आपके घर में किसी प्रकार से कोई परेशानी है तो भी आप वंदनवार घर में लगा सकते है क्योंकि इसे लगाना घर में शुभता का प्रतीक माना जाता हैं। ऐसी मान्यता है कि जिस घर के दरवाजे पर वंदनवार लगे होते हैं, वहां हमेशा देवता निवास करते हैं। तो ऐसे घर में सुख-शांति हमेशा बनी रहती है और किसी प्रकार का कष्ट घर में नहीं रहता है।

Load More In भाग्यफल
Comments are closed.