Home भाग्यफल धनु राशिफल 2020 : किसी पर अधिक भरोसा नहीं करे, पढ़िये सम्पूर्ण राशिफल

धनु राशिफल 2020 : किसी पर अधिक भरोसा नहीं करे, पढ़िये सम्पूर्ण राशिफल

2 second read
0
58
sagittarius-rashifal-2020-new-year-prediction-for-you-love-career-job-health

नये साल का आगमन हो गया है तो ऐसे में हर व्यक्ति यह जानने को उत्सुक है की उसके लिए नववर्ष कैसा रहेगा ? नौकरी, व्यापार में बनायीं गयी योजनायें सफल होगी ही नहीं वही आपके अपने प्रियजनो के साथ कैसे रिश्ते होंगे ! तो जानते है की धनु राशि के जातको के लिए साल 2020 क्या क्या नयी उम्मीद लेकर आया है।

कैसी रहेगी ग्रहों की स्थिति –

साल की शुरुआत में मंगल ग्रह वृश्चिक राशि में है जो की उनकी खुद की सामान्य राशि है, राहु मिथुन में वही केतु धनु में है, शनि सूर्य बुद्ध और गुरु भी वही है, शुक्र मकर राशि में है वही साल के पहले दिन चन्द्रमा कुम्भ राशि में होगा।

वर्ष पर्यन्त सभी ग्रहो की स्तिथि में लगातार बदलाव होगा लेकिन शनि मकर में, गुरु धनु में { बीच में कुछ समय वो मकर में होंगे }, राहु 23 सितम्बर को वृष में जायेगे वही उसी दिन केतु वृश्चिक में भी होंगे वही सूर्य हर महीने 1 राशि में गोचर करेंगे। बुद्ध शुक्र और मंगल अपनी अपनी गतियों के साथ राशियों में परिभ्रमण करेंगे।

धनु राशि का सामान्य परिचय –

हमारे मनीषियों ने राशियों को 12 विभाग में विभाजित किया है, मेष राशि से लेकर मीन राशि तक ये 12 राशियां कालपुरुष कुंडली के 12 भावो को दर्शाती है तो उसी क्रम में यह राशि नवीं राशि है और कालपुरुष की कुंडली में यह नवें भाव यानी धर्म के भाव को दर्शाती है।

इस राशि के स्वामी गुरु है और यह अग्नि तत्व की राशि है, इस राशि के जातक थोड़ा जल्दी गुस्सा हो जाते है, वाद विवाद करना पसंद नहीं करते है। इस राशि में अगर पाप ग्रह हो जातक अति अहंकारी हो जाता है और उग्र स्वभाव वाला होता है लेकिन अगर गुरु बुद्ध का सहयोग हो जातक वकील या बहुत बड़ा ज्योतिषी हो जाता है, सूर्य गुरु का सहयोग हो तो जातक उच्च अधिकारी हो.

कार्यस्थल और रोजगार :

sagittarius-rashifal-2020-new-year-prediction-for-you-love-career-job-health

सबसे पहले बात करते है की इस राशि के जातको के लिए साल 2020 कैरियर और व्यापार के लिहाज से कैसा रहेगा ? ज्योतिष में कार्य स्थल का विचार दशम स्थान से किया जाता है, वर्ष की शुरुआत में दशम का स्वामी बुद्ध लग्न में सूर्य शनि गुरु के साथ है जिसके कारण आपके निवेश का आपको लाभ मिलने वाला है। कार्य स्थल पर कुछ तनाव के साथ सफलता मिलने का योग है।

इस साल आपको नौकरी में बेहतर परिणाम मिलने की उम्मीद है वही व्यापारी वर्ग के लिये भी समय अनुकूल रहेगा, 24 जनवरी के बाद शनि का गोचर मकर राशि में होगा जिसके कारण आप साढ़े साती के अंतिम चरण में होंगे जिसके कारण आपकी आय में वृद्धि का योग है और लाभ होने का योग दिखाई दे रहा है।

वर्ष पर्यन्त गुरु का गोचर लग्न में होने से आपका आत्म विश्वास बढ़ा हुआ रहेगा, 30 मार्च से 30 जून तक गुरु का गोचर मकर में होगा और इस अवधि में आपको प्रमोशन और नया कॉन्ट्रैक्ट भी मिल सकता है, 23 सितम्बर के बाद राहु का गोचर वृष में आयेगा जिसके कारण आपको यात्राओं से लाभ होगा, विदेश से कोई ऑफर आ सकता है वही व्यापारी वर्ग को नये आर्डर प्राप्त होंगे।

आपका स्वास्थ्य कैसा रहेगा ?

sagittarius-rashifal-2020-new-year-prediction-for-you-love-career-job-health

ज्योतिष में रोग का विचार छटे भाव से किया जाता है और इस भाव का कारक मंगल है और राशि कन्या है, वही दुर्घटना का विचार आठवें भाव से किया जाता है और इस भाव का कारक शनि है वही कारक राशि वृश्चिक है, लग्न में शनि केतु होने के कारण स्वास्थ्य में हानि का योग है, इस दौरान किसी छोटी मोटी बीमारी को इग्नोर न करे।

शनि का गोचर 24 जनवरी से मारक स्थान में होगा जिसके कारण उसकी दृष्टि आठवें भाव पर जायेगी परिणाम स्वरूप कोई वाहन दुर्घटना आपके साथ हो सकती है, राहु का गोचर भी मारक स्थान में है जिसके कारण पेट के नीचे के हिस्से में चोट की सम्भावना है। गुरु शनि का योग मारक स्थान में 30 मार्च से 30 जून तक रहेगा जिसके कारण किडनी और मधुमेह के रोगियों को सावधान रहना होगा।

प्रेम सम्बन्ध के लिये वर्ष कैसा रहेगा ?

sagittarius-rashifal-2020-new-year-prediction-for-you-love-career-job-health

ज्योतिष में प्रेम सम्बन्धो का विचार पंचम स्थान से किया जाता है वही विवाह का विचार सप्तम स्थान से किया जाता है, प्रेम और सप्तम भाव दोनो का कारक शुक्र है, वर्ष की शुरुआत में पंचमेश मंगल बारहवें भाव में है जिसके कारण प्रेम सम्बन्धो में असफलता दिखाई दे रही है। इसके अलावा पंचम भाव पर केतु की दृष्टि भी ठीक नहीं है, इसके कारण आपका अपने प्रेमी से तनाव हो सकता है।

23 सितम्बर तक राहु का गोचर सप्तम स्थान में है जिसके कारण जीवनसाथी से थोड़ा सा तनाव हो सकता है, शनि का गोचर कुटुंब भाव में दिक्क्त पैदा कर सकता है, 30 मार्च से 30 जून तक गुरु का गोचर मकर में आपके संबंधो के लिये अनुकूल है। 23 सितम्बर के बाद राहु जैसे ही छटे भाव में आयेगा वो आपके और आपके जीवनसाथी के लिए अनुकूल हो जायेगा और इस दौरान आपके सम्बन्ध बेहतर होंगे, प्रेम विवाह के लिए सितम्बर के बाद का समय अनुकूल है।

पारिवारिक जीवन –

sagittarius-rashifal-2020-new-year-prediction-for-you-love-career-job-health

ज्योतिष में परिवार का विचार दूसरे और चौथे भाव से किया जाता है, दूसरे भाव से कुटुंब वही चौथे से मांगलिक कार्यो के बारे में विचार होता है, वर्ष आरम्भ में चौथे भाव का स्वामी गुरु लग्न में ही है जिसके कारण परिवार का माहौल आपके अनुकूल रहेगा ! आपकी माँ को अगर कोई बीमारी है तो उसमे उसे आराम मिल सकता है। गुरु ज्योतिष में पुत्र का कारक है जिसकी वजह से वो संतान पर भी धन खर्च करवा सकता है।

कुटुंब भाव में शनि का गोचर परिवार के ऊपर धन खर्च करायेगा वही 30 मार्च से 30 जून के बीच गुरु शनि योग के कारण किसी धार्मिक यात्रा पर जा सकते है ! इस दौरान धर्म कर्म में आपकी रूचि बढ़ेगी वही परिवार में किसी मांगलिक कार्य का आयोजन आप करवा सकते है।

23 सितम्बर के बाद राहु का गोचर जैसे ही छटे भाव में आएगा आपको अपने ननिहाल पक्ष की और से शुभ समाचार प्राप्त हो सकते है ! मामा और अपने चचेरे भाइयों का सहयोग प्राप्त होगा।

Share Now
Load More In भाग्यफल
Comments are closed.