1. हिन्दी समाचार
  2. New Delhi
  3. इंडिया गठबंधन में खटास! दिल्ली में होने वाली प्रस्तावित बैठक टली

इंडिया गठबंधन में खटास! दिल्ली में होने वाली प्रस्तावित बैठक टली

इंडिया गठबंधन की 6 दिसंबर को दिल्ली में होने वाली प्रस्तावित बैठक फिलहाल टल गई है। हालांकि इसकी कई वजह हो सकती हैं लेकिन इसका मुख्य कारण कई बड़े नेताओं का बैठक में न आना माना जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक विपक्षी गठबंधन के कुछ घटक दलों के प्रमुख नेताओं की उपलब्धता न होने के चलते इस अहम बैठक को स्थगित कर दिया गया है।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

नई दिल्‍ली: इंडिया गठबंधन की कल दिल्ली में होने वाली प्रस्तावित बैठक फिलहाल टल गई है। हालांकि इसकी कई वजह हो सकती हैं लेकिन इसका मुख्य कारण कई बड़े नेताओं का बैठक में न आना माना जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक विपक्षी गठबंधन के कुछ घटक दलों के प्रमुख नेताओं की उपलब्धता न होने के चलते इस अहम बैठक को स्थगित कर दी गई है। गठबंधन के तीन प्रमुख नेता मुख्यमंत्री नितीश कुमार, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने बैठक में आने से मना कर दिया था।

इससे पहले हो चुकी हैं तीन बैठक

बता दें कि पीएम मोदी को केंद्र की सत्ता से बाहर रखने के उद्देश्य से 26 विपक्षी दलों ने ‘इंडिया’ गठबंधन बनाया था। इसके बाद ‘इंडिया’ गठबंधन की अब तक तीन बैठक पटना, बेंगलुरु और मुंबई में हो चुकी हैं। गठबंधन के घटक दलों के नेताओं की पिछले दिनों मुंबई में हुई बैठक में गठबंधन के भविष्य के कार्यक्रमों की रूपरेखा तैयार करने के लिए 14 सदस्यीय समन्वय समिति का गठन किया गया था। समन्वय समिति विपक्षी गठबंधन की शीर्ष निर्णय लेने वाली संस्था के रूप में कार्य करेगी। फिलहाल यह बैठक ऐसे समय होने वाली थी जब मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा है। सिर्फ तेलंगाना में कांग्रेस ने जीत दर्ज की है।

गठबंधन में साफ नजर आ रहा बिखराव!

हालांकि बताया जा रहा है कि तमिलनाडु के मुख्यमंत्री और द्रमुक के नेता एमके स्टालिन चक्रवात के कारण पैदा हुए हालात के चलते बैठक में शामिल नहीं हो सकते थे। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का स्वास्थ्य ठीक नहीं है। तृणमूल नेता ममता बनर्जी परिवार वैवाहिक कार्यक्रम में व्यस्त है। आगामी लोकसभा चुनाव में एनडीए को चुनौती देने के लिए बनाया गया इंडिया गठबंधन में अब बिखराव साफ नजर आने लगा है। हालिया विधानसभा चुनावों में कांग्रेस पर सहयोगी दलों की अनदेखी का आरोप लगा है। मध्य प्रदेश में अखिलेश को पांच सीट तक देने को कांग्रेस राजी नहीं हुई। अब गठबंधन की बैठक में भी यह खटास बढ़ती दिख रही है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...