Home विदेश इमरान खान के इस कर्जमुक्ति फार्मूले को पढ़ कर आप नहीं रोक पाएंगे अपनी हसीं

इमरान खान के इस कर्जमुक्ति फार्मूले को पढ़ कर आप नहीं रोक पाएंगे अपनी हसीं

2 second read
0
59

इस्लामाबाद।  पिछले कई सालों से कर्ज के बोझ तले दबते जा रहे पाकिस्तान अब तक की सबसे बड़े आर्थिक संकट से जूझ रहा है और अब इसी आर्थिक संकट से निकलने के लिए पाकिस्तान सरकार के कुछ आर्थिक सलाहकारों ने पकिस्तान सरकार को अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आइएमएफ) के बेलआउट पैकेज को लेने से बचने का सलाह दिया गया है, और अब पाकिस्तान सरकार लग्जरी कारों, स्मार्टफोन और चीज के आयात पर रोक लगाने के बारे में भी सोच रही है, कर्जे से मुक्त होने के लिए पाकिस्तान सरकार एक साल के लिए पनीर, गाड़ियां, स्मार्टफोन और फलों के आयात पर पूरी तरह से रोक लगाएगी। इस कदम से ही सरकार को केवल एक साल में 4-5 बिलियन डॉलर की बचत होगी। मुल्क का चालू खाता घाटा 30 जून तक पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों के कारण 43 फीसदी बढ़कर 18 बिलियन डॉलर के पार चला गया है। पाकिस्तान अपनी जरूरत का 80 फीसदी कच्चा तेल आयात करता है। पाक का स्टेट बैंक दिसंबर से लेकर के अब तक चार बार रुपये का अवमूल्यन कर चुका है। वहीं ब्याज दरों में तीन बार इजाफा हो चुका है।

पाक वित्तमंत्री असद उमर ने माना कि विदेशी मुद्रा संकट से जूझ रहे पाक को चालू खाता घाटे से निपटने के लिए नौ अरब डॉलर की जरूरत है लेकिन फिलहाल हमने आईएमएफ जाने का कोई फैसला नहीं किया है। पीटीआई नेतृत्व वाली नई इमरान सरकार के सामने देश की अर्थव्यवस्था में सुधार लाने की चुनौती है क्योंकि सत्ता में आई नई सरकार को तुरंत प्रभाव से 12 अरब डॉलर की जरूरत है। पाकिस्तान संसद के उच्च सदन में सवालों का जवाब देते हुए उमर ने कहा, ‘बजट के मुताबिक हमें नौ अरब डॉलर की जरूरत है। लेकिन हम इसकी जड़ में जाकर समस्या का समाधान करना चाहते हैं।’ उन्होंने भरोसा जताया कि अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए जो उपाय किए जा रहे हैं उनका परिणाम दो से तीन साल में मिलने लगेगा।

Share Now
Load More In विदेश
Comments are closed.