1. हिन्दी समाचार
  2. वायरल
  3. Viral news: 15 बच्चे पैदा करने पर इस राज्य ने दिए 1 लाख का इनाम, मंत्री ने बताया- इसे अवैध घुसपैठ से निपटने का उपाय

Viral news: 15 बच्चे पैदा करने पर इस राज्य ने दिए 1 लाख का इनाम, मंत्री ने बताया- इसे अवैध घुसपैठ से निपटने का उपाय

This state gave a reward of 1 lakh for producing 15 children, अधिक बच्‍चे पैदा करो' अभियान के तहत मिजोरम में कई महिलाओं को पुरस्कृत किया गया। 12-12 बच्चे पैदा करने वाले को 1 लाख का इनाम, तो 8-8 बच्चे पैदा करने वाले को सांत्वना पुरस्कार दिया गया।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : देश में लगातार बढ़ती जनसंख्या भारत के लिए एक बड़ी चुनौती बनी हुई है, इसे रोकने को लेकर भारत सरकार कई तरह की योजनाएं चला रही है। जिससे इस बढ़ती जनसंख्या पर रोक लगाया जा सके। वे इसे लेकर लोगों को जागरुक भी कर रहे है। वहीं दूसरी तरफ भारत में ही एक ऐसा राज्य है, जहां अधिक बच्चे पैदा करने वाले को पुरस्कृत किया जा रहा है।

15 बच्चे पैदा करने वाले को मिला पहला पुरस्कार

आपको बता दें कि हम जिस राज्य की बात कर रहे है वो मिजोरम है। जहां मिजोरम के खेल मंत्री रॉबर्ट रोमाविया रोयते ने 17 महिलाओं को 2.5 लाख रुपये बांटे। इन सभी महिलाओं को यह राशि अधिक बच्‍चे पैदा करने के लिए दी गई थी। पहला इनाम जिस महिला को दिया गया उसके 15 बच्‍चे थे, दूसरा इनाम पाने वाली महिला के 13 बच्‍चे थे। यह कार्यक्रम आइजवाल ईस्‍ट-2 संसदीय क्षेत्र में आयोजित हुआ था।

इस अभियान के तहत बांटा गया इनाम

रॉबर्ट कहते हैं कि यह इनाम ‘अधिक बच्‍चे पैदा करो’ अभियान के तहत दिया गया है। यह अभियान यंग मिजो असोसिएशन और कई चर्च संगठन चला रहे हैं। इसका मकसद है अवैध प्रवासियो की बढ़ती तादाद का मुकाबला करने के लिए स्‍थानीय आबादी बढ़ाना। पहला इनाम पाने वाली महिला का नाम नंगुराउवी के 15 बच्‍चों में 8 बेटिया और 7 बेटे हैं। उन्‍हें 1 लाख रुपये का इनाम मिला है।

8-8 बच्चे वाले को सांत्वना पुरस्कार

दूसरा नंबर लियानथांगी का था जिनके 13 बच्‍चे हैं। उन्‍हे 30 हजार रुपये नगद मिला। दो महिलाओं और एक पुरुष को तीसरा स्‍थान मिला। इन सभी के 12-12 बच्‍चे थे। इन सभी को 20-20 हजार रुपये मिले। 12 दूसरी महिलाओं को जिनके 8-8 बच्‍चे थे उन्‍हें सांत्‍वना पुरस्‍कार के तौर पर 5-5 हजार रुपये दिए गए।

मिजो जनजाति के अस्तित्व को बचाने के लिए

यंग मिजो असोसिएशन की ओर से कहा गया कि अब समय की मांग है कि मिजो जनजाति के अस्तित्‍व के बचाने के लिए इस समय तेजी से जनसंख्‍या बढ़ाई जाए। चर्च और सिविल सोसायटी के लोग इस बात से परेशान थे कि मिजो की जनसंख्‍या वृद्धि दर बहुत कम हो गई है। दूसरी तरफ चकमा समुदाय की जनसंख्‍या वृद्धि दर बहुत ज्‍यादा है। चकमा जनजाति बांग्‍लादेश की सीमा से लगने वाले राज्‍य के दक्षिण पश्चिमी इलाके में रहते हैं।

चकमा समुदाय की जनसंख्या अधिक

अधिकांश मिजो चकमा समुदाय को विदेश कहते हैं। उनके अनुसार सीमापार बांग्‍लादेश से आने वाले अवैध प्रवासियों की वजह से चकमा समुदाय की जनसंख्‍या में तेजी से वृद्धि हो रही है। मिजोरम का जनसंख्‍या घनत्‍व राष्‍ट्रीय औसत 382 व्‍यक्ति प्रतिकिलोमीटर से बहुत कम महज 52 है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...