1. हिन्दी समाचार
  2. वायरल
  3. Viral: भगोने में बैठकर ऐश्वर्या ने रचाई आकाश से शादी, वजह जान आप भी हो जाएंगे हैरान!

Viral: भगोने में बैठकर ऐश्वर्या ने रचाई आकाश से शादी, वजह जान आप भी हो जाएंगे हैरान!

Viral: Aishwarya married Akash while sitting in the escape; केरल में भारी बारिश के कारण बाढ़ की स्थिति बनी हुई है। इस कारण वहां आम जनजीवन अस्त-वयस्त है। इसी बीच एक ऐसी खबर सामने आई, जिसने सभी को हैरान कर दिया।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : अभी तक आपने शादी से जुड़ी ऐसे कई खबरें पढ़ी होंगी, जिसमें या तो शादी के दौरान दूल्हा किसी और से शादी कर लेता है या दुल्हन मंडप छोड़कर भाग जाती है। लेकिन यहां दूल्हा और दुल्हन ने भागकर नहीं बल्कि भगोने में बैठकर शादी की, जिसे देख हर कोई हैरान हो गया। लोग ये सोचने को मजबूर हो गए की आखिर इन दोनों ने भगोने में बैठकर शादी क्यों की।

आपको बता दें कि ये खबर केरल की है, जो इन दिनों भारी बारिश के कारण बाढ़ से ग्रसित है। इस दौरान ऐसे कई भूस्खलन की भी खबरें सामने आई, जिसने कई घरों को उजाड़ दिया। इन्हीं दुखद घटनाओं के बीच एक जोड़े ने अनोखे तरीके से शादी रचाई। पेशे से स्वास्थ्यकर्मी एक जोड़ा सोमवार को जलमग्न सड़कों से जूझते हुए एल्युमीनियम के एक बड़े बर्तन (भगोना) में बैठकर विवाह स्थल तक पहुंचे और शादी के बंधन में बंधने में सफल रहे। थलावडी में एक मंदिर के निकट जलमग्न शादीघर में दोनों की शादी हुई। शादी में बेहद गिनती के रिश्तेदार आए थे।

आपको बता दें कि सोशल मीडिया पर आकाश और ऐश्वर्या के खाना पकाने के बड़े बर्तन में बैठकर शादी के लिए जाने का फोटो तेजी से वायरल हो रहा है। नवविवाहित जोड़ों ने बताया कि कोविड-19 महामारी की वजह से उन्होंने कम ही रिश्तेदारों को आमंत्रित किया था। उन्होंने बताया कि उनकी शादी सोमवार को तय थी और शुभ मुहुर्त की वजह से वे इसे टालना नहीं चाहते थे। उन्होंने बताया कि वे कुछ दिन पहले मंदिर आए थे और तब वहां बिल्कुल पानी नहीं भरा था। पिछले दो दिनों में भारी बारिश की वजह से यहां पानी भर गया। दोनों स्वास्थ्यकर्मी हैं और चेंगन्नूर के एक अस्पताल में काम करते हैं।

सबसे पहले की कोर्ट मैरिज

आकाश ने पीटीआई से बात करते हुए कहा कि उनका एक अंतरजातीय रिलेशनशिप था जिसका ऐश्वर्या के एक चाचा ने विरोध किया था और इसलिए, उन्होंने 5 अक्टूबर को कोर्ट से शादी की। इसके बाद, उन्होंने बिना किसी देरी के हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार शादी करने का फैसला किया, लेकिन यहां के थाकाजी में उनके घर के पास के अधिकांश मंदिरों में शादी के लिए 15 दिन पहले से बुकिंग की बात कर रहे थे। अंत में, उन्हें थलावडी में एक मंदिर मिला, जो सोमवार को विवाह समारोह की मेजबानी करने के लिए सहमत हो गया।

कोविड ड्यूटी पर हैं दोनों तैनात

उन्होंने कहा कि रविवार को मंदिर के किसी व्यक्ति ने उन्हें फोन करके पूछा था कि क्या वह शादी को स्थगित करने को तैयार हैं क्योंकि कार्यक्रम स्थल पानी से भर गया था। लेकिन वे दोनों स्वास्थ्य कार्यकर्ता हैं जो COVID ड्यूटी पर हैं ऐसे में उनको खुद नहीं पता था कि अब उन्हें शादी करने के लिए कब छुट्टी मिलेगी। इसलिए उन्होंने इसे स्थगित नहीं करने का फैसला किया। इसके बाद मंदिर के अधिकारियों ने कहा कि वे उन्हें कार्यक्रम स्थल तक पहुंचाने के लिए जरूरी व्यवस्था करेंगे।

इसके अलावा नहीं था कोई दूसरा उपाय

सोमवार को, जब वे थलावडी पहुंचे, तो लोग दूल्हा-दुल्हन और उनके साथ आए परिवार के कुछ सदस्यों को लाने के लिए खाना पकाने के बर्तन, जो मंदिर के ही थे, के साथ तैयार थे। आकाश ने कहा कि इतने कम समय में उनके पास यही एकमात्र विकल्प उपलब्ध था। एक गहरे बर्तन में दोनों बैठ गए और कुछ लोग उसको पकड़कर मंदिर परिसर पहुंचे ताकि वह पलटे न। आकाश ने कहा कि वह उनको बर्तन में बैठने में हिचकिचाहट नहीं हुई क्योंकि बारिश के दौरान वहां अक्सर ऐसे उपाय किए जाते रहे हैं। उसने साल 2018 में बाढ़ के दौरान में घरों में फंसे लोगों को निकालने के लिए इस तरह के उपाय को देखे थे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...