1. हिन्दी समाचार
  2. क्राइम
  3. ये है केमेस्ट्री की गंदी टीचर: जो छात्र के साथ बुझाती थी अपनी हवस की प्यास, सच्चाई आई सामने तो बच्चे को मरना पड़ा

ये है केमेस्ट्री की गंदी टीचर: जो छात्र के साथ बुझाती थी अपनी हवस की प्यास, सच्चाई आई सामने तो बच्चे को मरना पड़ा

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : सेक्स, सेक्स, सिर्फ सेक्स, जिसकी भूख थी एक टीचर की, जो छात्रों को पढ़ाती तो केमेस्ट्री थी, लेकिन वो इस पढ़ाई के आड़ में छात्र और शिक्षक के पवित्र संबंध को कलंकित करती थी। उसकी मंशा थी कि किसी तरह उसे सेक्स की प्राप्ति हो। जिसे लेकर उसने अपने ही स्कूल के एक 16 वर्षीय छात्र को अपने हुस्न और प्यार के जाल में फंसाया।

 

उसे जब मन करता बुलाती और जब मन करता तो अपने यौन इच्छा की पूर्ति करती। लेकिन एक दिन जब उसका मन भर गया तो, उसने ऑफिस में ही काम करने वाले एक स्टाफ के साथ प्रेमालाप शुरू किया। इस दौरान वो लड़के को थोड़ा इग्नोर करने लगी।

 

लेकिन जब एक दिन छात्र को इस टीचर और उस स्टाफ के साथ संबंध की जानकारी मिली तो उसने खुद की जान ले ली। लेकिन उसने सुसाइड करने से पहले ऐसे कई सबूत छोड़ दिये, जिसने इस केमेस्ट्री के गंदी टीचर की पोल खोल दी।

 

दरअसल, यह शर्मनाक मामला पांच दिन पहले बिलासपुर के तोरवा थाना इलाके में सामने आया है। लेकिन छात्र का सुसाइड नोट का खुलासा पुलिस ने बुधवार को किया है। जहां केमेस्ट्री की टीचर की हकीकत जब छात्र को पता चली तो उसने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। इस नोट के आधार पर पुलिस ने महिला टीचर को गिरफ्तार कर लिया है।

 

 

बच्चे से अपने शरीर की भूख मिटाती थी महिला टीचर

बता दें कि आरोपी युवती अराधना एक्का सरकंडा इलाके के प्राइवेट स्कूल लोयला में केमेस्ट्री की टीचर है। जिसने अपने ही स्कूल में पढ़ने वाले छात्र को जाल में फंसाया और उसका यौन शोषण करती रही। बच्चे को पहले वह अश्लील चैट और वीडियो भेजती थी। फिर उसके साथ शारीरिक संबंध भी बनाने लगी।

लेकिन छात्र को टीचर से एकतरफा प्यार हो गया। जबकि युवती सिर्फ बच्चे से अपने शरीर की भूख मिटाती थी। जब चाहे बच्चे का नंबर ब्लॉक कर देती और जरूरत पड़ती तो उसका फायदा उठाती। इसी बीच महिला अपने स्कूल में किसी स्टाफ मेंबर के प्यार में पड़ गई। जब यह सच्चाई स्टूडेंट को पता चली तो वह दुखी हुआ। उसने कई बार युवती को फोन किया, लेकिन उसने कोई जवाब नहीं दिया छात्र ने आत्महत्या कर ली।

 

कोड भाषा में लिखा था सुसाइड नोट लगे 5 दिन पढ़ने में

पुलिस जांच में पता चला कि मृतक बच्चे को टेक्नोलॉजी की अच्छी जानकारी थी। उसने मरने से पहले जो सुसाइड नोट कोड भाषा में लिखा था। जिसे पुलिस डिकोड करने में पांच दिन लग गए। इतना ही नहीं टीचर क्या करती है, किससे मिलती यह सब जानकारी बच्चे को थी।

उसने टीचर के मोबाइल, वॉट्सऐप और सोशल मीडिया एकाउंट हैक करके रखा था। बता दें कि टीचर छात्र से मिलने के लिए उसके घर 18 मार्च को गई थी। जैसे ही वह वापस लौटी तो बच्चे ने आधे घंटे बाद सुसाइड कर लिया।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...