1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. बेरोजगारों के लिए धियाड़ी पर खुली वैकेंसी, जानें कैसै मिल रही है नौकरी…

बेरोजगारों के लिए धियाड़ी पर खुली वैकेंसी, जानें कैसै मिल रही है नौकरी…

विधानसभा चुनाव में एक ओर जहां समर्पित कार्यकर्ता प्रचार अभियान में जुटे रहते हैं, वहीं कुछ लोग चुनाव में धियाड़ी कमाने का इंतजार करते रहते हैं। ऐसा ही कुछ श्रीनगर में भी देखा जा रहा है। बता दें यहां चुनाव पार्टी कार्यालय के बाहर अक्सर ऐसे लोग घूमते दिख रहे हैं जो बताया जा रहा है कि इन लोगों को 700 रुपये तक प्रचार करने के लिए धियाड़ी दी जा रही है और कुछ राजनीतिक दल और उनके प्रत्याशी कार्यकर्ताओं की कमी से जूझते हुए दिख रहे हैं।  

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट:पायल जोशी

विधानसभा चुनाव में एक ओर जहां समर्पित कार्यकर्ता प्रचार अभियान में जुटे रहते हैं, वहीं कुछ लोग चुनाव में धियाड़ी कमाने का इंतजार करते रहते हैं। ऐसा ही कुछ श्रीनगर में भी देखा जा रहा है। बता दें यहां चुनाव पार्टी कार्यालय के बाहर अक्सर ऐसे लोग घूमते दिख रहे हैं जो बताया जा रहा है कि इन लोगों को 700 रुपये तक प्रचार करने के लिए धियाड़ी दी जा रही है और कुछ राजनीतिक दल और उनके प्रत्याशी कार्यकर्ताओं की कमी से जूझते हुए दिख रहे हैं।

दरअसल समर्पित कार्यकर्ताओं की कमी उनके लिए प्रचार अभियान में बाधक बन रही है। ऐसे कार्यकर्ता भी कम हैं जो खुद के खर्चे और कुछ समय देखकर अपने प्रत्याशी या पार्टी के लिए काम कर सकें। ऐसे में पेड कार्यकर्ताओं का सहारा लेना उनके लिए मजबूरी बन रही है। इस स्थिति को देखते हुए पार्टी भी ऐसे कार्यकर्ताओं को ढूंढने में रहती हैं।

बता दें इसी का फायदा उठाते हुए बेरोजगार युवा से लेकर बड़ी उम्र के लोग पार्टी चुनाव दफ्तरों के बाहर घूमते हुए दिख रहे हैं। दरअसल श्रीनगर में ही एक पार्टी कार्यालय के बाहर एक पेड कार्यकर्ता यह कहते हुए भी सुनाई दिया कि आज उसकी पांच दिन की धियाड़ी लगा देना। अमूमन इस तरह के लोग किसी भी पार्टी चुनाव कार्यालय के आसपास घूमते हुए देखे जा सकते हैं। सूत्रों की मानें तो प्रचार के लिए कुछ राजनीतिक दलों के प्रत्याशी अधिकांशत इसी तरह के पेड कार्यकर्ताओं पर निर्भर हैं।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...