1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड: बारिश ने बदला चार प्रमुख नदियों का रुख, IIT-रुड़की करेगी अब अध्ययन

उत्तराखंड: बारिश ने बदला चार प्रमुख नदियों का रुख, IIT-रुड़की करेगी अब अध्ययन

उत्तराखंड में हुई भारी बारिश के कारण राज्य की चार प्रमुख नदियों ने अपना रास्ता बदल लिया है, जिससे वन विभाग को नदी चैनलों और इस परिवर्तन के प्रभाव पर एक अध्ययन करने के लिए IIT-रुड़की से काम करने के कहना पड़ा है।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: अनुष्का सिंह

देहरादून: उत्तराखंड में हुई भारी बारिश के कारण राज्य की चार प्रमुख नदियों ने अपना रास्ता बदल लिया है, जिससे वन विभाग को नदी चैनलों और इस परिवर्तन के प्रभाव पर एक अध्ययन करने के लिए IIT-रुड़की से काम करने के कहना पड़ा है।

17 अक्टूबर से विनाशकारी बारिश के बाद वन विभाग के एक विश्लेषण में पाया गया कि कुमाऊं – कोसी, गौला, नंधौर और डबका में उफनती नदियों ने अपना मार्ग बदल दिया है। कुछ क्षेत्रों में यह मानव बस्तियों की ओर बहने लगे हैं, जबकि अन्य क्षेत्रों में, परिवर्तन ने वन विभाग के खनन और गश्त जैसे कार्यों परप्रभाव डाला है। जो कि एक चिंता का विषय है।

बता दे कि पश्चिमी सर्कल के मुख्य वन संरक्षक तेजस्विनी पाटिल ने टीओआई को बताया कि, “नदियों के मार्ग में बदलाव हमारे लिए एक चिंता का विषय है। हमने आईआईटी-रुड़की से परिवर्तनों का अध्ययन करने के लिए कहा है ताकि हम नदी पर तटबंधों का निर्माण कर सकें।” पाटिल के अनुसार, अपने सामान्य चैनलों के माध्यम से बहने के बजाय, वर्षा आधारित नदियों का पानी अब अपनी पारंपरिक नदी के किनारे बह रहा है, जो कई मामलों में है।

पर्यावरणविदों का कहना है कि नदी किनारे अतिक्रमण ने समस्या को और बढ़ा दिया है। हिमांशु ठक्कर ने कहा, “नदियों ने अपना मार्ग नहीं बदला है या नए चैनल नहीं लिए हैं, वे बस अपने ही स्थान पर बह रही हैं – नदी के किनारे – जिस पर इंसानों ने कब्जा कर लिया है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...