1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड में बढ़ी कंगना रनौत की मुश्किल, इस नेता ने कराया मुकदमा, जाने क्या है पूरा मामला….

उत्तराखंड में बढ़ी कंगना रनौत की मुश्किल, इस नेता ने कराया मुकदमा, जाने क्या है पूरा मामला….

हमेशा से विवादो में रहने वाली, और पद्म पुरस्कार से नवाजी गईं कंगना रनौत आज फिर विवादों के घेरो में आ गई है। बता दें की 1947 में देश को मिली आजादी वाले बयान पर गुस्साई उत्तराखंड महिला कांग्रेस ने थाने में तहरीर देकर मुकदमा दर्ज करने की मांग की है।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट:पायल जोशी

हमेशा से विवादो में रहने वाली, और पद्म पुरस्कार से नवाजी गईं कंगना रनौत आज फिर विवादों के घेरो में आ गई है। बता दें की 1947 में देश को मिली आजादी वाले बयान पर गुस्साई उत्तराखंड महिला कांग्रेस ने थाने में तहरीर देकर मुकदमा दर्ज करने की मांग की है।

रुड़की सिविल लाइंस कोतवाली पहुंचीं महिला कांग्रेस की अध्यक्ष रश्मि चौधरी ने तहरीर देते हुए कंगना के इस बयान को देशद्रोही और भड़काऊ करार दिया है। उन्होंने कहा कि कंगना सुर्खियां बटोरने के लिए किसी भी हद तक जा सकतीं हैं और उनका असली चेहरा आज उजागर हुआ है।

आपको बता दें की कंगना ने उन वीर सपूतों का अपमान किया है, जिन्होंने भारत को आजाद कराने के लिए अपने प्राणों को हंसते-हंसते न्योछावर कर दिया था। कंगना ने एक टीवी चैनल पर एक कार्यक्रम में 1947 में मिली आजादी को भीख बताया था।

कहा है कि कहा कि कंगना ने भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, महात्मा गांधी और रानी लक्ष्मीबाई का अपमान किया है और आजादी की लड़ाई में जिन लाखों लोगों ने अपनी जान गंवाई, उनका भी अपमान किया है। उन्होंने कहा कि अभिनेत्री के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज होना चाहिए।

वहीं दूसरी और उत्तर प्रदेश की तरह उत्तराखंड कांग्रेस में भी 40 प्रतिशत टिकट महिलाओं को दिए जाने की मांग उठी है। महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव अनुपमा रावत ने भी शीर्ष नेतृत्व के समक्ष इसकी पैरवी की है। अनुपमा रावत ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में पार्टी की वरिष्ठ नेता प्रियंका गांधी ने 40 फीसदी टिकट महिलाओं को दिए जाने की पुरजोर पैरवी की है। उत्तराखंड महिला कांग्रेस भी इसकी जोरदार वकालत करती है। उत्तराखंड में आगामी विधानसभा चुनाव में 40 प्रतिशत टिकट महिलाओं को दिए जाने चाहिए।

महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्य ने हल्द्वानी में शीर्ष नेतृत्व को इस बारे में पत्र सौंपा है। इसके अलावा उन्होंने खुद भी इस बारे में शीर्ष नेतृत्व को पत्र लिख दिया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...