1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. रामनगर में बढ़ा डेंगू का खतरा, सरकारी हॉस्पिटल में डेंगू वार्ड तैयार….

रामनगर में बढ़ा डेंगू का खतरा, सरकारी हॉस्पिटल में डेंगू वार्ड तैयार….

करोना का खतरा अभी थमा नही है, उसी बीच सर्दी का मौसम आते ही डेंगू का कहर तेज़ी से बड़ने लगा है। डेंगू को रोकने के लिए संबंधित विभागों द्वारा तैयारी शुरू कर दी गई है। जिसके चलते सरकारी हॉस्पिटल में डेंगू वार्ड बनाए जा रहे हैं।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट:पायल जोशी
करोना का खतरा अभी थमा नही है, उसी बीच सर्दी का मौसम आते ही डेंगू का कहर तेज़ी से बड़ने लगा है। डेंगू को रोकने के लिए संबंधित विभागों द्वारा तैयारी शुरू कर दी गई है। जिसके चलते सरकारी हॉस्पिटल में डेंगू वार्ड बनाए जा रहे हैं।

पिछले दो तीन दिन से क्षेत्र में डेंगू मच्छर का डंक लोगों को चुभने लगा है, जिस वजह से डेंगू के मरीज हॉस्पिटलों में आने लगे हैं। निजी हॉस्पिटल में दो दिन में पांच मरीज़ भर्ती हो चुकें हैं। चिकित्सकों द्वारा डायरिया और तेज बुखार के मरीजों का कार्ड टेस्ट कराया जा रहा है। कार्ड टेस्ट में मरीजों में डेंगू की पुष्टि हो रही है। सर्दी में डेंगू के मामले ज्यादा आते है, जिसको मद्देनजर रख कर सरकारी चिकित्सालय में डेंगू वार्ड बनाया गया है।

बता दें कि दो महीने पहले नगरपालिका ने लोगों को जागरुक करने के लिए बाहर रखे सामान, टायर, गमलों में जमा पानी हटाने को कहा गया था। नगर पालिका के ईओ भरत त्रिपाठी कहते हैं कि डेंगू की रोकथाम के लिए हर वार्ड में विशेष टीमों का गठन किया गया है। नगर में एंटी लार्वा स्प्रे का छिड़काव नियमित रूप से कराया जा रहा है। इसके अलावा शाम को वार्ड में सघन फॉगिंग कराई जा रही है। मुख्य चिकिसाधिकारी ने बताया है कि डेंगू के मरीज रिपोर्ट हो रहे हैं, और इसे रोकने के लिए तैयारी की गई है। चिकित्सालय में डेंगू वार्ड बनाकर आवश्यक दवाओं के साथ एलाइजा और कार्ड टेस्ट की व्यवस्था भी की गई है।

आपको बता दें की डेंगू मच्छर का प्रकोप पहली बार नवंबर में देखनो को मिल रहा है। पहले डेंगू का कहर अगस्त और सितंबर तक रहता था, लेकिन इस बार नवंबर में डेंगू के मरीज रिपोर्ट हो रहे हैं। बीते महीने अक्टूबर में हुई बारिश ने डेंगू का प्रकोप ज्यादा फैला दिया है।
चिकित्सकों का कहना है कि डेंगू का मच्छर साफ पानी मे पनपता है। लिहाजा डेंगू के फैलाव को रोकने के लिए अपने आसपास कूलर, टायर, गमले में पानी जमा न होने दें, और जिन बर्तनों का इस्तेमाल न हो, उसमें जमे हुए पानी को निकाल दें।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...