1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. बाढ़ के बाद उत्तराखंड में डेगूं का कहर, सरकार ने चलाया महाअभियान…

बाढ़ के बाद उत्तराखंड में डेगूं का कहर, सरकार ने चलाया महाअभियान…

पिछले कुछ दिनो से पूरे देश में ड़ेगूं ने कहर मचाया हुआ है, और इससे बहुत लोगों की मौत भी हो चुकी है, जिसके चलते सरकार इससे निपटने के लिए बहुत एहिम कदम हुठा रही है, और वहीं दूसरी और ड़ेगूं से निपटने के लिए देहरादून नगर निगम व स्वास्थ्य विभाग बुधवार से महाअभियान शुरू कर रहा है। बता दें कि 27 अक्टूबर से नगर को चार जोन में बांटकर बल्लूपुर चौक से महाअभियान चलाया जाएगा।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट:पायल जोशी
उतराखंड: पिछले कुछ दिनो से पूरे देश में ड़ेगूं ने कहर मचाया हुआ है, और इससे बहुत लोगों की मौत भी हो चुकी है, जिसके चलते सरकार इससे निपटने के लिए बहुत एहिम कदम हुठा रही है, और वहीं दूसरी और ड़ेगूं से निपटने के लिए देहरादून नगर निगम व स्वास्थ्य विभाग बुधवार से महाअभियान शुरू कर रहा है। बता दें कि 27 अक्टूबर से नगर को चार जोन में बांटकर बल्लूपुर चौक से महाअभियान चलाया जाएगा।
इसके लिए इसके लिए 40 स्प्रे फॉगिंग और 40 एंटी लार्वा मशीनों से पूरे इलाके में दवाइयों का छिड़काव किया जाएगा। इसके अतिरिक्त चार बड़े वाहन में फॉगिंग मशीनें और चार ट्रैक्टर टैंकर में एंटी लार्वा के छिड़काव में सहयोग करेंगे। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मेयर गामा ने ड़ेगूं बीमारी के प्रति जागरुक करने पर जोर दिया है, और मेयर ने ये भी कहा है कि वे खुद महाअभियान की मॉनिटरिंग करेंगे और अगर किसी भी प्रकार की लापरवाही पकड़ी गई तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
आपको बता दें कि बैठक में मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. कैलाश जोशी, वरिष्ठ नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आरके सिंह, जिला मलेरिया अधिकारी सुभाष जोशी समेत नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग के कई अधिकारी उपस्थित रहेगें। बता दें कि इस बार देहरादून जिले में भी डेंगू के मरीज बढ़ रहे हैं, और आजकल डेंगू से मिलते-जुलते लक्षणों वाला वायरल बुखार के भी मरीज ज्यादा आ रहे हैं। जिसके चलते डॉक्टर बुखार के ज्यादातर मरीजों को भी डेंगू की जांच के लिए केह रहें हैं।
सरकारी अस्पतालों में डेंगू की रैपिड और एलाइजा जांच निशुल्क की जाती है। पिछले लगभग दो साल पहले सरकार ने निजी लैब में डेंगू की जांच का शुल्क तय किया था, लेकिन इस बार ऐसे कोई आदेश नहीं मिले रहें हैं। फिर भी निजी लैब संचालकों से कहा गया है कि डेंगू की जांच के लिए कोई शुल्क नहीं वसूला जाएगा, अगर कोई शुल्क वसूलता है तो उन पर नियमानुसार कार्रवाई भी की जाएगी।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...