1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड के डिग्री कॉलेजों में सीटों का संकट, छात्रों ने किया प्रदर्शन, सरकार के सामने रखी ये मांग

उत्तराखंड के डिग्री कॉलेजों में सीटों का संकट, छात्रों ने किया प्रदर्शन, सरकार के सामने रखी ये मांग

पहाड़ के स्कूल और कॉलेज अपनी समस्याओं को लेकर प्रदेश सरकार पर पक्षपात और नाइंसाफी लगाया आरोप। प्राइमरी स्कूल से लेकर यूनिवर्सिटी तक के छात्रो ने मिलकर जिला मुख्यालय के बाहर किया प्रर्दशन और साथ ही उच्च शिक्षा मंत्री के पुतले को भी फूंका ।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट:अनुष्का सिंह

देहरादून: उत्तराखंड सरकार इन दिनो प्रदेश मे छात्रो की शैक्षिक समस्या को लेकर सुर्खियों में बनी हुई है। जहाँ एक तरफ प्रदेश का कॉलेज प्रशासन इस साल कोरोना और लॉकडाउन की वजह से 12वीं मे आये बम्पर रिजल्ट से परेशान है। तो वहीं अब दूसरी तरफ पहाड़ के स्कूल और कॉलेज अपनी समस्याओं को लेकर प्रदेश सरकार पर पक्षपात और नाइंसाफी का आरोप लगा रहे हैं। प्राइमरी स्कूल से लेकर यूनिवर्सिटी तक के छात्र मिलकर जिला मुख्यालय के बाहर प्रर्दशन कर रहे हैं और साथ ही उच्च शिक्षा मंत्री के पुतले को भी फूंक रहे हैं।

दरअसल सारा मामला बागेश्वर के दूरस्थ क्षेत्र राजकीय इंटर कॉलेज रातिरकेटी का है। जहाँ बागेश्वर महाविद्यालय के छात्र कई दिनों से पढ़ाई लिखाई छोड़ कर धरने पर बैठे हुए हैं, और सड़को पर प्रर्दशन कर रहे हैं। छात्रो का आरोप है कि स्कूल के शिक्षक अपने कार्य को बिल्कुल भी गंभीरता से नही ले रहे, पिछले दो सालो मे शिक्षक केवल कुछ दिन ही स्कूल पहुंची है। जिसकी वजह से छात्रो की पढ़ाई सही से नही हो पाती, और साथ ही कई और प्रकार कि सम्स्याओं का सामना करना पड़ता है। वहीं आए दिन प्राचार्य की छुट्टी पर रहने कि वजह से छात्रो के छोटे-छोटे काम भी नहीं हो पाते हैं।

इन्ही समस्याओं से परेशान होकर छात्रो ने शिक्षा मंत्री को भी ज्ञापन भेजा था, और बदले मे कोई जवाब न मिलने के बाद अब छात्र धरना प्रदर्शन पर उतर आये हैं। धरने पर बैठने के बाद छात्रों ने उच्च शिक्षा मंत्री व प्राचार्य का पुतला भी दहन किया। बता दे कि यह धरना प्रर्दशन पिछले 10 दिन से ज़ारी है। जिसके बाद अब छात्रो का कहना है कि कॉलेज में जब तक प्राचार्य नहीं आते, तब तक धरना जारी रहेगा।

तो वहीं दूसरी ओर प्रदेश मे इस साल ज़्यादा छात्रों के अच्छे अंकों के साथ पास हो जाने से सरकारी कॉलेजों में प्रवेश को लेकर दिक्कतें हो रही हैं। बता दे कि इस साल 12वीं मे कुल 99.56 फीसदी बच्चे पास हुए हैं। कोविड के प्रकोप के चलते परीक्षाएं न लेकर इंटरनल असेसमेंट के आधार पर छात्रों क रिज़ल्ट तैयार किऐ जाने कि गाइडलाइन जारी की गई थी। जिसके चलते अब कॉलेजों में सीमित सीटें होने के कारण ऐडमिशन की मुश्किल खड़ी हो गई है।

हालांकी सम्सय का समाधान ढूंढ़ते हुऐ उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत ने सरकारी संस्थानों में सीटें बढाने के निर्देश दिये हैं। साथ ही रावत ने कॉलेजों में ईवनिंग क्लास शुरु करने का भी प्रस्ताव रखा।

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...