1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. तीन दिन बाद भी नही खुले बदरीनाथ हाईवे, 1000 की तदाद में फंसे तीर्थयात्री

तीन दिन बाद भी नही खुले बदरीनाथ हाईवे, 1000 की तदाद में फंसे तीर्थयात्री

पिछले कई दिनो से उत्तराखंड में भारी बारिश की वजह से चारधाम यात्रा बंद की गई थी, पर मौसम खुलने के बाद यात्रा फिर से शुरु कर दी गई। हालांकि बदरीनाथ हाईवे तीसरे दिन भी सुचारू नहीं हो पाया है। बुधवार को भी दिनभर हाईवे को खोलने का काम जारी रहा, लेकिन बदरीनाथ हाईवे को गौचर से विष्णुप्रयाग तक ही सुचारू किया जा सका है। जबकि विष्णुप्रयाग से बैनाकुली तक जगह-जगह हाईवे बाधित है। बता दें कि टैय्या पुल, बैनाकुली, हनुमान चट्टी और रड़ांग बैंड पर हाईवे पर भारी मात्रा में मलबा और बोल्डर आए हुए हैं।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट:पायल जोशी
नई दिल्ली : पिछले कई दिनो से उत्तराखंड में भारी बारिश की वजह से चारधाम यात्रा बंद की गई थी, पर मौसम खुलने के बाद यात्रा फिर से शुरु कर दी गई। हालांकि बदरीनाथ हाईवे तीसरे दिन भी सुचारू नहीं हो पाया है। बुधवार को भी दिनभर हाईवे को खोलने का काम जारी रहा, लेकिन बदरीनाथ हाईवे को गौचर से विष्णुप्रयाग तक ही सुचारू किया जा सका है। जबकि विष्णुप्रयाग से बैनाकुली तक जगह-जगह हाईवे बाधित है। बता दें कि टैय्या पुल, बैनाकुली, हनुमान चट्टी और रड़ांग बैंड पर हाईवे पर भारी मात्रा में मलबा और बोल्डर आए हुए हैं।
आपको बता दें कि सीमा सड़क संगठन ने सात जेसीबी मशीनों और सौ से अधिक मजदूरों को हाईवे खोलने के काम में लगाया हुआ है, लेकिन हाईवे बंद होने से जोशीमठ, गोविंदघाट, पांडुकेश्वर और बदरीनाथ धाम में करीब तीन हजार यात्री फंसे हुए हैं।
चमोली के जिलाधिकारी हिमांशु खुराना ने बताया कि बुधवार को सुबह तक हाईवे को सुचारू कर दिया जाएगा। बीआरओ के कमांडर कर्नल मनीष कपिल ने बताया कि टैय्या पुल नामक स्थान पर पहाड़ी से भारी मात्रा में बोल्डर और मलबा हाईवे पर आ गया है, जिस वजह से दो मशीनें इसे हटाने में लगी हुई हैं। अन्य जगहों पर भी हाईवे बंद है।
आपको बता दें कि जिलाधिकारी हिमांशु खुराना और पुलिस अधीक्षक यशवंत सिंह चौहान ने बुधवार को बदरीनाथ हाईवे का निरीक्षण किया और हालात का जायजा लिया। जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि यात्रामार्ग को सुचारू होने तक यात्रियों को सुरक्षित स्थानों पर ठहराया जाएं और उनके भोजन, पानी की व्यवस्था की जाएं।
यात्रियों का कहना है कि भगवान के दर तक पहुंचकर बिना दर्शन वापस लौटना पड़ रहा है, इससे बड़ा दुर्भाग्य और क्या हो सकता है। हाईवे बंद होने के कारण चार दिन से जोशीमठ में फंसी लखनऊ निवासी महिला तीर्थयात्री अपनी पीड़ा बयां करते हुए रो पड़ीं, और कई बदरीनाथ हाईवे ना खुलने पर लोगों मायूस ही लौट गए।
बदरीनाथ धाम के यात्रा पड़ावों में बिजली, पानी की व्यवस्था के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया गया है। बता दें कि बिजली लाइन पर फाल्ट आने से जोशीमठ क्षेत्र में सप्लाई ठप पड़ी है, जिस वजह से लाइन को सुचारू करने का काम जारी है, और यात्रियों को समुचित सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...