1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड में भारी बारिश से पिछले तीन दिनों में 46 लोगों की मौत, टूट गए नेशनल हाईवे

उत्तराखंड में भारी बारिश से पिछले तीन दिनों में 46 लोगों की मौत, टूट गए नेशनल हाईवे

पिछले दो दिन से भारी बारिश ने जमकर तबाही मचाई हुई है। मैदानी इलाकों से लेकर पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश से काफी नुकसान पहुंचा है। वैसे राहत की बात ये है कि अब मौसम खुल गया है, लेकिन जो बारिश की वजह से जो नुकसान हुआ है उसकी भरपाई को काफी समय लगेगा। आपको बता दें कि बारिश की वजह से प्रदेशभर में पिछले तीन दिनों में 46 लोगों की मौत हो चुकी है, और सबसे ज्यादा मौतें नैनीताल जिले में हुई हैं।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट:पायल जोशी
नई दिल्ली : पिछले दो दिन से भारी बारिश ने जमकर तबाही मचाई हुई है। मैदानी इलाकों से लेकर पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश से काफी नुकसान पहुंचा है। वैसे राहत की बात ये है कि अब मौसम खुल गया है, लेकिन जो बारिश की वजह से जो नुकसान हुआ है उसकी भरपाई को काफी समय लगेगा। आपको बता दें कि बारिश की वजह से प्रदेशभर में पिछले तीन दिनों में 46 लोगों की मौत हो चुकी है, और सबसे ज्यादा मौतें नैनीताल जिले में हुई हैं।
बरसात की वजह से सड़कों के साथ साथ नेशनल हाईवे टूट गए हैं, और पुल टूटने से जगह जगह यात्री फंस गए हैं। मौसम विभाग की मानें तो उत्तराखंड में दो दिन की बारिश के बाद बुधवार को राहत की उम्मीद है, और नैनीताल, चंपावत, पौड़ी और पिथौरागढ़ जिलों में हल्की बारिश हो सकती है। सबसे राहत की बात ये है कि बुधवार को लेकर कोई अलर्ट जारी नहीं हुआ है। बारिश के बाद पर्यटन नगरी मसूरी में सुबह को धूप खिली रही तो नैनीताल में भी मौसम साफ रहेगा। बता दें कि देहरादून में भी सुबह से ही धूप खिली हुई है।
बता दें कि दो दिन की बारिश के थम जाने से चारधाम यात्रियों और जिला प्रशासन ने राहत की सांस ली है। उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के जिला प्रशासन ने यात्रियों को धामों के लिए भेजना शुरू कर दिया है। हालांकि अभी भी यात्री बड़ी संख्या में धामों और रास्तों में रुके हुए हैं। हालांकि गंगोत्री धाम को रवाना हुए यात्री सुक्की टॉप में हाईवे बंद रहने से फंसे रहे और देर शाम तक गंगोत्री नहीं पहुंच पाए। उधर, यमुनोत्री धाम में कई यात्री युमना के दर्शन को पहुंचे। बता दें कि बारिश थमने के बाद धामों की यात्रा शुरू होने से कारोबारियों और यात्रियों ने राहत की सांस ली है। बुधवार सुबह मौसम खुलने पर जिला प्रशासन ने सोनप्रयाग और गौरीकुंड से तीर्थ यात्री केदारनाथ के लिए भेजे गए।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...