1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. विष्णु तिवारी ने बेगुनाह होते हुए भी 20 साल काटे सलाखों के पीछे, उजड़ गई पूरी दुनिया… पढ़े पूरी कहानी

विष्णु तिवारी ने बेगुनाह होते हुए भी 20 साल काटे सलाखों के पीछे, उजड़ गई पूरी दुनिया… पढ़े पूरी कहानी

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट  : मनीष जैन / मोहम्मद आबिद
आगरा : लौटा जो वो साज काट कर बिना जुर्म की, घर आकर उसने सारे परिंदे रिहा कर दिए, जीहां हम किसी बेगुनाह की बात कर रहे हैं और वो बेगुनाह जिसकी पूरी दुनियां ही उजड़ गई।

20 साल से आगरा की सेंट्रल जेल में बंद विष्णु तिवारी जो भगवान शिव का नाम है लेकिन जिस विष्णु की हम बात कर रहे वो भगवान नहीं हो सकता है क्योंकि भगवान से किसी की तुलना नहीं हो सकती है।

बता दें कि हम जिस विष्णु की बात कर रहे हैं उसने बिना किसी जुर्म के आगरा की सेंट्रल जेल में 20 साल का समय गुजारा है और अब आखिरकार विष्णु तिवारी को रिहाई मिल गई है। बतादें की विष्णु तिवारी उस जुर्म की सजा काटी है जो उसने किया ही नहीं है।

20 साल पहले विष्णु तिवारी पर दुष्कर्म का आरोप लगाया गया था जिसके बाद आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था जिसके बाद कोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए ललितपुर की ट्रायल कोर्ट ने विष्णु तिवारी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई जिसके बाद साल 2003 में विष्णु तिवारी को आगरा की सेंट्रल जेल में शिफ्ट किया गया था।

वहीं अब विष्णु तिवारी जेल से रिहा होने के बाद खुश हैं क्योंकि हाईकोर्ट ने विष्णु तिवारी को दुष्कर्म के आरोप में निर्दोष माना है । और आज विष्णु तिवारी को आगरा की केंद्रीय कारागार से रिहा कर दिया गया है। लेकिन उनके चेहरे पर इस बात का गम भी झलक आया कि इन 20 सालों में उन्होंने सब कुछ खो दिया है यानी कि माता पिता की मौत हो चुकी है और उसके दो सगे भाई भी उसका साथ छोड़ चुके हैं जिसके बाद दो भाई बचे हैं और वो भी विष्णु तिवारी से मिलने नहीं आए हैं। जेल से रिहा होने के बाद विष्णु तिवारी ने कहा की जो दो भाई बचे वो इतने गरीब हैं की जेल तक आने के लिए उनके पास पैसे नहीं हैं।

ललितपुर के महरौली थाना क्षेत्र के सिलवान गांव के रहने वाले विष्णु तिवारी ने बताया कि गांव में पड़ोसियों से उनकी पेस बंदी चल रही थी । इसी में पड़ोसियों ने उनके खिलाफ एससी एसटी एक्ट और दुष्कर्म का झूठा मुकदमा दर्ज करवा दिया । और तभी से विष्णु तिवारी आगरा की सेंट्रल जेल में कैद था । विष्णु तिवारी ने बताया कि उसने 20 साल जेल में रसोईया का काम किया है और अब जिंदगी को संवारने के लिए मेहनत मजदूरी करेगा।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...