1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. वंदे भारत मिशन: शारजाह से 182 भारतीयों को लेकर लखनऊ पहुंचा एयर इंडिया का विमान

वंदे भारत मिशन: शारजाह से 182 भारतीयों को लेकर लखनऊ पहुंचा एयर इंडिया का विमान

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

{ अनुज की रिपोर्ट }

वंदे भारत मिशन के तहत दूसरे विदेशों में लॉकडाउन में फसे प्रवासी भारतीयों और कामगारों को लाने की कवायद तेज़ हो गयी है जो रोजगार के लिए खाड़ी देश गए थे।

कोरोना महामारी में शारजाह में परेशानी और मुश्किलें का सामना कर रहे प्रवासी भारतीयों की अपीलों के माध्यम से यूपी सरकार विदेशों में फंसे भारतीयों को भारत सरकार से मदद से यूपी में लायी है। आज 7 देशों की 8 फ्लाइट में से 01 फ्लाइट शारजाह से लखनऊ पहुंची है।

लॉकडाउन के दौरान लखनऊ आने वाली यह पहली उड़ान है, उल्लेखनीय है कि वंदे भारत मिशन के तहत विदेश में फंसे भारतीयों को वापस लाया गया है।

शारजाह से भारत आई फ्लाइट में 182 यात्री आज अपने देश वापस लौट आये ,इसी बीच एक अच्छी तस्वीर देखने को मिली कि एक शख्स अपने देश वापस लौटेने पर लखनऊ एयरपोर्ट पर उतर कर हिंदुस्तान की ज़मीन को चूमा और सजदा किया।

कोरोना महामारी के बीच गल्फ देशों में फंसे 182 यात्रियों को लेकर आज देर रात शारजाह से लखनऊ एक फ्लाइट पहुंची है जिसमें प्रदेश के कई जिलों के लोग शामिल है।

यात्रियों को थर्मल स्क्रीनिंग की गयी है..मिशन वंदे भारत के तहत शाहजहां से विशेष विमान 182यात्रियों को लेकर लखनऊ के चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट पर 09:00 PM मिनट पहुंची।

सभी प्रवासी श्रमिकों – कामगारों को सरकारी क्वारंटीन सेंटरों में स्वास्थ्य जांच के पश्चात राशन पैकेट व भरण पोषण भत्ता देकर होम क्वारैंटाइन किया जाएगा।

शारजाह से पहुंचे लखनऊ पहुंचे प्रवासियों की थर्मल स्क्रीनिंग के लिए एयरपोर्ट के बाहर काउंटर बनाए गए है।

यहां जांच कराने के बाद ही उन्हें बाहर जाने की अनुमति दी जाएगी वही नागरिक उड्डयन मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी ने बताया कि यहां आने के बाद उनकी मेडिकल स्क्रीनिंग की जाएगी साथ मे स्वास्थ्यकर्मी पीपीई किट से युक्त होकर उनकी जांच करेंगे।

लखनऊ के लोगों को होटल में 14 दिन के लिए क्वॉरेंटाइन किया जाएगा वही करोना के संदिग्ध मरीजों का सैंपल लिया जाएगा।

कोई व्यक्ति पॉजिटिव पाया जाता है तो उसका इलाज कराया जाएगा,नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पूरी से बात हुई है जो लोग भी आना चाहते हैं उनको बुलाया जाएगा।

लॉकडाउन के दौरान लखनऊ आने वाली यह पहली उड़ान है,उल्लेखनीय है कि वंदे भारत मिशन के तहत विदेश में फंसे भारतीयों को वापस लाया गया है।

एअर इंडिया के विमान से हवाई अड्डे पहुंचने पर यात्रियों की हवाई अड्डे पर ही चिकित्सकीय जांच की गयी और डीएम अभिषेक प्रकाश ने बताया कि फ्लाइट से उतरते ही यात्रियों की प्राथमिक मेडिकल स्क्रीनिंग की जाएगी..

प्राथमिक जांच में यदि कोरोना के लक्षण नहीं मिले तो लखनऊ के बाहर के यात्रियों को बस और टैक्सी द्वारा उनके संबंधित जिलों में भेजा जाएगा।

इसका खर्च यात्री स्वयं उठाएंगे,जो यात्री लखनऊ के निवासी होंगे उनको तीन श्रेणियों के होटल में 14 दिन क्वारैंटाइन किया जाएगा.. होटल एक हजार, दो हजार व तीन हजार रुपये प्रतिदिन के भुगतान पर यात्रियों को मिलेंगे।

शारजाह से आई इसी फ्लाइट से 182 प्रवासी भारतीय वापस लौटे हैं..सभी लोगों को जांच के बाद ही घर जाने दिया जाएगा..

इन सभी लोगों को लखनऊ में बनाए गए 9 क्वारंटाइन सेंटर में रखा जाएगा कई होटलों को भी क्वॉरेंटाइन सेंटर बनाया गया है जबकि एमिटी यूनिवर्सिटी में भी एक सेंटर बनाया गया है..

होटलों में उन यात्रियों को रखा जाएगा जो इसका भुगतान कर सकेंगे और भुगतान में असमर्थ लोगों को एमिटी यूनिवर्सिटी के क्वारंटाइन में रखा जाएगा..

वही एसडीएम प्रफुल्ल त्रिपाठी ने बताया कि 9 बसों के जरिए इन लोगों को भेजा जा रहा है और 14 दिन के बाद कोरन्टीन सेंटर से इनको जांच के बाद भेजा जाएगा ।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...