1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट विश्वनाथ धाम के निर्माण में आएगी तेजी, डेढ़ हजार कर्मचारी बढ़ाने का फैसला

पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट विश्वनाथ धाम के निर्माण में आएगी तेजी, डेढ़ हजार कर्मचारी बढ़ाने का फैसला

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

काशी विश्वनाथ धाम में निर्माण कार्यों में और तेजी लाने का फैसला किया गया है। इसके लिए डेढ़ हजार तक कर्मचारियों की संख्या बढ़ाई जाएगी। स्टोन वर्क का काम शुरू होने के बाद से अब ज्यादा संख्या में मजदूरों व अन्य सहयोगियों की जरूरत महसूस की जा रही है। कमिश्नर दीपक अग्रवाल, डीएम कौशलराज शर्मा व सीईओ के साथ ऑनलाइन बैठक में यह निर्णय लिया गया।

श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के निर्माण में जयपुर और माउंटआबू से पत्थर मंगवाए जा रहे है। इनकी ढुलाई के लिए अब ज्यादा लोगों की जरूरत पड़ रही है। बैठक में धाम में काम कर रहे हैं सभी कर्मचारियों के कोरोना टेस्ट कराए जाने को लेकर भी फैसला लिया गया।

निर्माण स्थल पर ही कैंप लगाकर कर्मचारियों का एंटीजन टेस्ट कराया जाएगा। कमिश्नर ने स्वास्थ्य विभाग को कैंप की व्यवस्था करने का निर्देश दिया है। मंदिर के सीईओ गौरांग राठी ने बताया कि तय समय पर श्रीकाशी विश्वनाथ धाम का निर्माण पूरा करने के लिए कर्मचारियों की संख्या बढ़ाई जाएगी।

प्रधानमंत्री मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है विश्वनाथ धाम

काशी विश्वनाथ धाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है। यहां कई सुविधाएं डेवलप की जाएंगी।सबसे बड़ी विशेषता यह होगी कि गंगा स्नान के बाद श्रद्धालु सीधे बाबा विश्वनाथ के दरबार में प्रवेश कर जाएंगे। श्रद्धालुओं के लिए भोगशाला, यात्री सुविधा केंद्र, हैंडिक्राफ्ट और सोविनियर शाप, मल्टीपरपज हाल, गैलरी, सिटी म्यूजियम, वैदिक केंद्र, फूड कोर्ट के अलावा धार्मिक पुस्तकों के स्टाल बनाए जा रहे हैं।

पर्यावरण प्रदूषण की समस्या झेल रही काशी में काशी विश्वनाथ धाम पर्यावरण संरक्षण का भी संदेश देगा। इसमें 60 फीसदी निर्माण और 40 फीसदी वन क्षेत्र होगा। इसमें रुद्राक्ष के पेड़ लगाए जाएंगे, जो इस क्षेत्र के लिए आकर्षण का केंद्र होंगे। इसके अलावा धाम क्षेत्र में सीवेज के ट्रीटमेंट के लिए 25 एमएलडी का एसटीपी भी बनाया जाएगा। जलासेन घाट स्थित सीवेज सिस्टम को अंडरग्राउंड करके धाम क्षेत्र की नालियों से जोड़ा जाएगा।

जलासेन और ललिता घाट के बीच सांस्कृतिक गतिविधियों के लिए भी एक मंच तैयार किया जा रहा है। इस मंच पर वर्ष भर विविध सांस्कृतिक आयोजन होंगे। इसके अलावा कॉरिडोर क्षेत्र में सांस्कृतिक और सामूहिक गतिविधियों के लिए मल्टीपरपज हाल भी तैयार किए जाएंगे।

काशी विश्वनाथ धाम में वाराणसी गैलरी श्रद्धालुओं के आकर्षण का केंद्र होगी। इसमें भारत की आध्यात्मिकता को दर्शाने वाली गैलरी का निर्माण किया जाएगा। काशी की धरोहरों को संजोने के लिए काशी विश्वनाथ धाम में सिटी म्यूजियम बनाया जाएगा। इसमें काशी की धरोहरों की ऐतिहासिक तस्वीरें और पेंटिंग को श्रद्धालुओं और आगंतुकों के लिए रखा जाएगा।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...