1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. लखनऊ नगर निगम से व्यावसायिक भवनों के कर निर्धारण की 233 लापता, वार्ड लिपिक ने बड़े पैमाने पर घोटाले की आशंका व्यक्त की

लखनऊ नगर निगम से व्यावसायिक भवनों के कर निर्धारण की 233 लापता, वार्ड लिपिक ने बड़े पैमाने पर घोटाले की आशंका व्यक्त की

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

लखनऊ: लखनऊ नगर निगम जोन आठ कार्यालय में व्यावसायिक भवनों के कर निर्धारण की 233 फाइलें रजिस्टर पर अंकित हुए बिना कम्प्यूटर में दर्ज हो गई हैं। फाइलें भी गायब कर दी गई हैं। वार्ड लिपिक ने बड़े पैमाने पर घोटाले की आशंका व्यक्त करते हुए जोनल अधिकारी से शिकायत की है।

मामला बिजली पासी प्रथम वार्ड स्थित ट्रांसपोर्टनगर का है। इस वार्ड के बाबू आशीष शर्मा ने जोनल अधिकारी को शिकायती पत्र दिया है। उसमें कहा है कि कर निर्धारण की सभी पत्रावलियां बिना रजिस्टर में अंकित किए कम्प्यूटर में दर्ज न किए जाने का आदेश है। ऐसा होने पर अनियमितता मानी जायेगी। लेकिन ट्रांसपोर्ट नगर की 233 कर निर्धारण की पत्रावलियां बिना रजिस्टर में अंकित हुए कम्प्यूटर में दर्ज कर दी गईं हैं। सभी पत्रावलियां गायब भी कर दी गईं हैं।

बीते 16 सितम्बर को लेखा परीक्षक द्वारा रजिस्टर एवं कंप्यूटर में दर्ज कर निर्धारण सम्बन्धी पत्रावलियों की मांग करने पर इसका खुलासा हुआ। बाबू ने कहा है कि पत्रावलियां उनके द्वारा न तो कंप्यूटर में दर्ज करायी गयी है और न ही रजिस्टर पर अंकित की गई हैं। ऐसी स्थिति में लेखा परिक्षक पत्रावलियां उपलब्ध कराया जाना संभव नहीं हो पा रहा है।

बाबू ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच कराने व दोषी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। यह मामाल इसलिए भी गंभीर माना जा रहा है कि सभी मामले ट्रांसपोर्ट नगर मोहल्ले के हैं। इसमें ज्यादातर व्यावसायिक भवनों के कर निर्धारण से संबंधित पत्रावलियां हैं।

अभी कोई शिकायती पत्र नहीं मिला है। पत्रावलियां गायब होना व रजिस्टर मे अंकित हुए बिना कम्प्यूटर में दर्ज होना गंभीर मामला है। पत्र मिलने के बाद कुछ कहा जाएगा।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...