1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. UP: हाथरस के हमलावरों पर NSA लगाने का आदेश, जानें क्या होता है NSA…

UP: हाथरस के हमलावरों पर NSA लगाने का आदेश, जानें क्या होता है NSA…

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: निहाल राठौर

नई दिल्ली: अपराध के मामलों मे हाथरस एक अड्डे के रूप मे उभरकर सामने आ रहा है। पिछले साल हुए गैंगरेप के बाद हाथरस को देश मे सभी जान गए, लोगों ने इसकी काफी आलोचना की। कुछ नेताओं ने तो अपनी रोटी सेकने का एक भी मौका नहीं छोड़ा। आपको बता दें कि एक बार फिर हाथरस से छेड़खानी का मामला सामने आ रहा है। जिले के सासनी थाना क्षेत्र मे चार लोगों ने अपने खेतों में काम कर रहे एक 50 वर्षीय व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी। जिसने उसकी बेटी को परेशान करने के लिए एक के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला दर्ज किया था। पुलिस ने मंगलवार को मुख्य आरोपी (गौरव शर्मा) को गिरफ्तार कर लिया है, जो कथित तौर पर समाजवादी पार्टी का नेता है। अपने तीन साथियों के साथ मिलकर उसने इस घटना को अंजाम दिया।

2018 में, मृतक ने शर्मा के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला दर्ज किया था जिसे गिरफ्तार कर लिया गया था और एक महीने बाद जमानत पर रिहा कर दिया गया था। आज (2 मार्च) को आरोपियों के खिलाफ यूपी सरकार हाथरस पर NSA लगाने का आदेश दिया है।

NSA क्या होता है:

  • राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (NSA), या रासुका को इंदिरा गांधी की सरकार मे 23 सितंबर 1980 को अस्तित्व में लाया गया था। यह कानून, राज्य और केंद्र सरकार को एक ऐसे व्यक्ति को हिरासत में लेने का अधिकार देता है जो राष्ट्र की सुरक्षा के लिए खतरा बन चुका हो।

 

  • रासुका के तहत अगर कोई अधिकारी किसी संदिग्ध को गिरफ्तार करता है तो उसे राज्य सरकार को इस गिरफ़्तारी की वजह बतानी होती है। जब तक राज्य सरकार इस गिरफ्तारी का अनुमोदन नहीं कर दे, तब तक बारह दिन से ज्यादा की गिरफ़्तारी की नहीं हो सकती है।

 

  • अगर, गिरफ्तारी के कारण और साबुत मिल जाते हैं तो व्यक्ति को गिरफ्तारी की अवधि से एक साल तक हिरासत में रखा जा सकता है। समय अवधि पूरा होने से पहले न तो सजा खत्म की जा सकती है और ना ही उसमें फेरबदल हो सकता है।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...