1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. नोएडा में फर्जी वीजा, पासपोर्ट बनाने वाले तीन नाइजीरियन गिरफ्तार

नोएडा में फर्जी वीजा, पासपोर्ट बनाने वाले तीन नाइजीरियन गिरफ्तार

वीजा समाप्ती के बाद भी अवैध तरह से देश में रहकर फर्जी दस्तावेजो के आधार पर फर्जी वीजा और फर्जी पासपोर्ट बनाने वाले तीन नाइजीरियन मूल के आरोपियों को मंगलवार को नोएडा एसटीएफ ने दिल्ली से गिरफ्तार किया है।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

नोएडा : नोएडा समेत एनसीआर में अवैध रुप से रह रहे विदेशियो को फर्जी वीजा और पासपोर्ट उपलब्ध कराने वाले तीन नाइजीरियन नागरिको को मंगलवार को नोएडा एसटीएफ और नॉलेज पार्क थाना पुलिस ने दिल्ली में अलग-अलग जगहो से गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों के पास से पुलिस ने 21 फर्जी वीजा, 18 पासपोर्ट, 16 एटीएम कार्ड, 30 मोबाइल फोन, 20 फर्जी एक्टिव सिम कार्ड, 2 लेपटॉप, 42 फर्जी यूएस डॉलर, एक कार, एक स्कूटी, पासबुक और 12 लाख रुपये कीमत की अमेरिकन ड्रग्स भी बरामद हुई है। आरोपी विदेशी ड्रग्स का भी धन्धा करते थे।

ग्रेटर नोएडा के डीसीपी अभिषेक वर्मा ने मंगलवार को प्रेस वार्ता करते हुए बताया कि नॉलेज पार्क थाना पुलिस और एसटीएफ टीम को काफी दिनो से फर्जी पासपोर्ट और वीजा बनाऐ जाने की सूचना मिल रही थी। इसी सूचना पर पुलिस टीम लगातार काम कर रही थी। पुलिस ने मंगलवार को मुखबिर की सूचना पर दिल्ली में अलग-अलग जगहो से नाइजीरियन मूल के तीन विदेशी नागरिको को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों की पहचान नाइजीरिया के रहने वाले कॉलिंस ओडिंबा, ओला देले और आजू डेनियल के रुप में हुई है। पकड़े गए आरोपी कुछ समय पहले भारत में एजुकेशन वीजा, टूरिस्ट वीजा और मेडिकल वीजा पर आये थे। इन तीनो के वीजा की अवधि समाप्त हो गई थी और हाल में यह अवैध रुप से भारत में रह रहे थे। तीनों विदेशी नागरिकों ने मिलकर फर्जी कागजात की मदद से फर्जी वीजा, पासपोर्ट तैयार करने लगे। इसके अलावा ये आरोपी विदेशी ड्रग्स का भी धंधा करते थे और मोटे मुनाफे में ड्रग्स को बेचते थे।

अवैध रुप से रह रहे नाइजीरियन और चीनी लोगो को बेचते थे वीजा और पासपोर्ट

आरोपियों से पूछताछ में पुलिस को पता चला कि आरोपी भारत में अवैध रुप से रह रहे नाइजीरियन नागरिक, चीनी नागरिक को फर्जी वीजा और पासपोर्ट आदि बनाकर देते थे। ये लोग इन्हे नकली दस्तावेज के आधार पर बनवाते थे। ये आरोपी फर्जी वीजा और पासपोर्ट के लिए एक व्यक्ति से 10,000 से 30 हजार रुपये तक वसूल करते थे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...