1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. भारतीय परंपरा में मातृशक्ति को सदैव महत्व मिला है- CM योगी

भारतीय परंपरा में मातृशक्ति को सदैव महत्व मिला है- CM योगी

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र अहिरौली राय, कुशीनगर में आरोग्य मेला व संचारी रोग नियंत्रण कार्यक्रम का निरीक्षण करते हुए कहा कि, आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर इस कार्यक्रम में उपस्थित आप सभी माताओं एवं बहनों को ‘अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस’ की बधाई और अपनी शुभकामनाएं देता हूं। समाज के अंतिम पायदान में बैठे हुए व्यक्ति तक उत्तम आरोग्यता की सुविधा उपलब्ध कराने की दृष्टि से यह आरोग्य मेले आयोजित किए जा रहे हैं।

इसमें स्वास्थ्य के साथ-साथ पोषण तथा केंद्र एवं राज्य की स्वास्थ्य संबंधी सभी योजनाओं को फोकस किया जा रहा है। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के साथ ही आज मुख्यमंत्री आरोग्य मेला का छठवां संस्करण भी है। 2 फरवरी 2020 से हम लोगों ने मुख्यमंत्री आरोग्य मेला की शुरुआत सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में प्रारंभ की थी।

भारतीय परंपरा में मातृशक्ति को सदैव महत्व मिला है, जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में उन्हें सम्मान मिला है और यही कारण रहा है कि सबसे प्राचीन समाज तमाम विपरीत परिस्थितियों का सामना करते हुए भी निरंतर प्रगति के पथ पर आगे बढ़ा है। ‘अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस’ के अवसर पर मातृ शक्ति के सशक्तिकरण की दिशा में क्या कदम उठाए गए हैं और क्या उठाए जा सकते हैं, इसे आगे बढ़ाने के लिए आज का यह दिवस हम सबको एक नई ऊर्जा के साथ चिंतन, मनन और उसके अनुसार आचरण करने की प्रेरणा प्रदान करता है।

साथ ही उन्होंने कहा कि, आदरणीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ही प्रेरणा प्राप्त करके हम लोगों ने बेटी के जन्म से लेकर उसके विवाह तक के लिए ‘मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला’ और ‘मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह’ की दो अभिनव योजनाओं को शुरू किया है। साथ ही बेसिक शिक्षा के 01 करोड़ 80 लाख बच्चों को बैग, जूते-मोजे, कॉपी-किताब, स्वेटर आदि उपलब्ध कराने की व्यवस्था भी उत्तर प्रदेश सरकार ने इसी क्रम में की है।

आज जब पूरी दुनिया अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मना रही है, तब हम भी आज प्रत्येक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में ऐसे आयोजनों से मातृशक्ति के प्रति सम्मान व्यक्त करने व उनके सशक्तिकरण के लिए अपनी प्रतिबद्धता को दोहराने के लिए आपके बीच यहां उपस्थित हुए हैं। जिस समाज में जाति, मत, मजहब, लिंग अथवा किसी भी आधार पर भेदभाव होता हो, वह समाज आगे नहीं बढ़ सकता है। सामूहिकता का प्रयास ही हमारे सशक्तिकरण का आधार बन सकता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...