1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. यहां मनाई जाती है ‘जूता मार होली’, भैंसा गाड़ी पर बैठते हैं लाट साहब

यहां मनाई जाती है ‘जूता मार होली’, भैंसा गाड़ी पर बैठते हैं लाट साहब

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट– माया सिंह

उत्तर प्रदेश :  जिस तरह उत्तर प्रदेश में मथुरा के बरसाना और नंदगांव की लट्ठमार होली प्रसिद्ध है । उसी तरह शाहजहांपुर मे हर साल परंपरागत रूप से खेली जानी वाली “जूता – मार होली” की भी अपना अलग ही पहचान है । कोरोना संकट के बावजूद होली के जश्न के लिये तैयारियां शुरू हो गई है । ख़ास बात यह है कि प्रशासन ने यहां के इलाके में मौजूद 40 मस्जिदों को पलास्टिक के शीट से ढंक दिया है ताकि होली के दौरान कोई अप्रिय घटना न हो।

दरअसल , यूपी के शाहजहांपुर में जूता मार होली काफी चर्चित है । यहां होली के जश्न मनाने के साथ एक जुलुस निकलता है , जिसमें लाट साहब (अंग्रेजी हुकूमत के अफसर) के पुतले को एक बैलगाड़ी में बैठाकर उसपर जूते बरसाए जाते हैं ।

शाहजंहा पुर के एसपी संजय कुमार ने बताया कि जुलुस को लेकर अभी से तैयारियां शुरू हो गई है । जुलुस के रास्ते में पड़ने वाले सभी मस्जिदों पर ख़ासतौर पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है औऱ भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिये गये है । आगे उन्होनें कहा कि रास्ते वाली सभी मस्जिदों को ढ़का जा रहा है ताकि कोई व्यक्ति मस्जिद पर रंग या जूता नहीं फेंके , जिससे उत्सव में बांधा पड़ने की संभावना नहीं रहे ।

एसपी का कहना है कि कुछ मस्जिदों को कवर कर दिया गया है औऱ बाकी को 28 मार्च से पहले कर दिया जाएगा । इतना ही नहीं जुलुस के रूट में कई जगहों पर बैरिकोडिंग की गई है वहीं कुछ रास्तों को बंद कर दिया गया है । इसके अलावा रूट में सीसीटीवी कैमरे के साथ ड्रोन कैमरे से भी निगरानी रखी जा रही है ।

जानकारी के लिये बता दें कि शाहजंहा पुर में 18वीं सदीं से ही परंपरा चली आ रही है । अंग्रेजों के नीति फूट डालो शासन करो लागू होने के बाद स्थानीय लोगो ने अंग्रेजों के प्रति अपना गुस्सा प्रकट करने के लिये इसकी शुरूआत की थी । लेकिन देश आज़ाद होने के बाद यह एक ख़ास परंपरा बन गई ।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...