1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. पूर्वाचंल के बाहुबली धनंजय सिंह की बढ़ी मुश्किलें, पुलिस ने घोषित किया इतने का इनाम

पूर्वाचंल के बाहुबली धनंजय सिंह की बढ़ी मुश्किलें, पुलिस ने घोषित किया इतने का इनाम

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

लखनऊ: यूपी को योगी सरकार अपराधियों पर लगाम लगाने की पूरी कोशिश कर रही है। आपको बता दें गुरुवार सुबह यूपी STF ने कुख्यात अपराधी मुख़्तार अंसारी और मुन्ना बजरंगी गैंग के दो शूटर को एनकाउंटर में ढ़ेर कर दिया। STF ने ये कार्रवाई गुप्त सूचना के आधार पर की। वही दूसरी ओर यूपी के बाहुबली और जौनपुर के पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर लखनऊ पुलिस ने 25 हजार का इनाम घोषित कर दिय़ा है। आपको बता दें कि धनंजय अजीत सिंह हत्‍याकांड में वांटेड हैं तभी से वह लगातार फरार चल रहे हैं।

बुधवार की रात बाहुबली सांसद के चार ठिकानो पर छापा मारा, लेकिन उनको काई सुराग नहीं लग पाया। पूर्व सांसद पर आरोप है कि वह छह जनवरी की रात में कठौता चौराहे पर हुए गैंगवार में मऊ मुहम्मदाबाद गोहाना के पूर्व उप ज्येष्ठ प्रमुख अजीत सिंह की हत्या में शामिल हैं। इतना ही नहीं पुलिस के पास उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट है। यह वारंट जारी होने के बाद से ही वह फरार चल रहे हैं।

आपको बता दें कि गिरफ्तारी का वारंट लेने के बाद पुलिस कई दिनो से शांत बैठी थी, लेकिन बुधवार की रात पुलिस ने अचानक बाहुबली की तलाश में उसके कुर्सी रोड स्थित आवास, शारदा व सरस्वती अपार्टमेंट में उसके फ्लैट और उसके बेहद करीबी साथी के मालवीय नगर स्थित आवास पर ताबड़तोड़ दबिश दी।

इतना ही नहीं पुलिस ने इस दौरान एक बर्खास्त सिपाही के घर भी दबिश दी थी, लेकिन धनंजय का पता नहीं चला। इस दबिश में पुलिस ने धनंजय सिंह के दो ठिकानों से तीन लोगों को हिरासत में लिया था। इन तीनों को पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया।

आपको बता दें कति पुलिस को अजीत सिंह हत्‍याकांड में अन्‍य तीन शूटरों रवि यादव, राजेश तोमर, शिवेंद्र सिंह उर्फ अंकुर की भी तलाश है। मिली जानकारी के अनुसार एक शूटर मुस्तफा उर्फ बंटी को बागपत पुलिस ने कुछ दिन पहले उत्तराखंड से पकड़ा था। लेकिन  उसकी गिरफ्तारी की पुष्टि बागपत पुलिस ने अभी तक नहीं की है।

पुलिस को खबर मिली है कि बाहुबली सांसद धनंजय सिंह दिल्ली में एक वकील के संपर्क में हैं। जिसके बाद पुलिस की दो टीमें दिल्ली में भी दो जगहों पर दबिश दी। लेकिन धनंजय सिंह का कुछ पता नहीं चल सका। पुलिस ने धनंजय़ के आरोपी उस वक्त बनाया था, जब अजित सिंह के हत्या कांड में शामिल एक आरोपी गिरधारी ने धनंजय सिंह का नाम लिया था। आपको बता दें कि बाद में  पुलिस ने दावा किया था कि मुठभेड़ में गिरधारी मारा गया है।

इतनी ही नहीं धनंजय सिंह पर एक घायल शूटर राजेश तोमर का लखनऊ और सुलतानपुर में इलाज कराने में मदद करने का भी आरोप लगा है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...