Home उत्तर प्रदेश कोरोना के बढ़ते आंकड़ों के बीच संपूर्ण लॉकडाउन की ओर बढ़ रहा UP, जल्द लग सकता है लॉकडाउन !

कोरोना के बढ़ते आंकड़ों के बीच संपूर्ण लॉकडाउन की ओर बढ़ रहा UP, जल्द लग सकता है लॉकडाउन !

4 second read
0
332

नई दिल्ली : यूपी में कोरोना के नए मामलों के रफ्तार को देखते हुए 6 शहरों में नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है, जिसमें प्रमुख लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, प्रयागराज, नोएडा और गाजियाबाद है, जहां आज से अगले कुछ दिनों के नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है। आपको बता दें कि यूपी में पिछले 24 घंटे में 6,023 कोरोना केस आए हैं जबकि 40 की मौत हो गई है।

यूपी में कहां-कहां नाइट कर्फ्यू लागू?

अब तक लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, नोएडा, गाजियाबाद और प्रयागराज में नाइट कर्फ्यू का ऐलान हो चुका है। लखनऊ में रात 9 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू रहेगा, जो 16 अप्रैल तक लागू रहेगा। लखनऊ में रात्रिकालीन कर्फ्यू सिर्फ लखनऊ नगर निगम क्षेत्र में ही लागू होगा, ग्रामीण इलाकों में नहीं। जबकि कानपुर में रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू लगाया जाएगा। कानपुर डीएम के अनुसार, 30 अप्रैल तक यहां कर्फ्यू लागू रहेगा। वाराणसी में रात 9 बजे से नाइट कर्फ्यू लगाया जाएगा। सुबह का समय अभी प्रशासन की ओर से तय नहीं है। प्रयागराज में रात 10 बजे से लेकर सुबह 8 बजे नाइट कर्फ्यू लागू रहेगा। प्रयागराज में 20 अप्रैल तक यह व्यवस्था लागू रहेगी।

वहीं नोएडा और गाजियाबाद में आज रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है, जो 17 अप्रैल तक लागू रहेगा।

प्रयागराज में क्या रहेगा बंद, क्या खुला?

प्रयागराज में आदेश के मुताबिक, नाइट कर्फ्यू के दौरान सिर्फ जरूरी सेवाओं को ही अनुमति मिलेगी जिसमें फल, सब्जी, दूध, एलपीजी, डीजल, पेट्रोल और मेडिसिन की सप्लाइ शामिल है।

वाराणसी में क्या बंद, क्या खुला?

वाराणसी में परिवारिक, सामाजिक और धार्मिक आयोजनों को छोड़कर किसी कार्यक्रम की इजाजत नहीं दी जाएगी। सभी पार्क, स्टेडियम सुबह और शाम कुछ घंटों के लिए खुलेंगे। घाट पर आरती भी छोटे स्तर पर आयोजित की जाएगी। आम जनता के शामिल होने पर रोक रहेगी। चिकित्सा, नर्सिंग और पैरा मेडिकल संस्थानों को छोड़कर सभी सरकारी, गैर सरकारी, निजी विद्यालय, महाविद्यालय, शैक्षणिक संस्थान और कोचिंग बंद रहेंगे। परीक्षा और प्रैक्टिकल परीक्षा के समय में स्कूल खुलेंगे।

लखनऊ में क्या खुला क्या बंद?

नाइट कर्फ्यू के दौरान में आवश्यक वस्तुएं (फल,सब्जी,दूध, एलपीजी, पेट्रोल-डीजल और दवा) लाने व ले जाने की छूट होगी। नाइट शिफ्ट के सरकारी/अर्द्ध सरकारी कर्मचारियों, आवश्यक वस्तुओं व सेवाओं से जुड़े निजी क्षेत्र के कर्मचारी भी रात में घर से ऑफिस व ऑफिस से घर आ-जा सकेंगे। रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन, एयरपोर्ट आने-जाने वाले लोग अपना टिकट दिखा कर आ-जा सकेंगे।सरकारी, गैर सरकारी, निजी प्रबंधीय विद्यालय, महाविद्यालय, शैक्षणिक संस्थान और कोचिंग संस्थान बंद करने के निर्देश दिए गए हैं। परन्तु मान्यता प्राप्त शैक्षणिक संस्थानों में परीक्षाएं / प्रैक्टिकल कोविड 19 प्रोटोकॉल का कठोरता से अनुपालन करते हुए आयोजित किए जा सकेंगे।

कानपुर में किन चीजों पर रहेगा प्रतिबंध?

कानपुर में रात 10 बजे से 6 बजे तक केवल जरूरी सेवाओं और वस्तुओं के परिवहन को छोड़कर किसी भी व्यक्ति, वाहन वगैरह का आवागमन प्रतिबंधित रहेगा। कक्षा 12 तक के समस्त शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे लेकिन जहां परीक्षाएं व प्रैक्टिचल चल रहे हैं वहां उन्हें संपन्न कराने के बाद शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे।

नोएडा और गाजियाबाद में किन चीजों पर रहेगा प्रतिबंध?

निर्देश के मुताबिक, नाइट कर्फ्यू के दौरान आवश्यक वस्तुओं, चिकित्सा सेवाओं के लिए मूवमेंट जारी रहेगा। सभी सरकारी, निजी शिक्षण संस्थान 17 अप्रैल तक बंद रहेंगे। कोचिंग को भी छूट नहीं दी गई है। वहीं गाजियाबाद के DM अजय शंकर पांडेय ने भी सभी शिक्षण संस्थाएं, स्कूल, कॉलेज, कोचिंग सेंटर को आगामी 17 अप्रैल तक बंद करने का आदेश दिया है। इसके साथ ही जिलाधिकारी ने यह भी कहा कि जिन शिक्षण संस्थानों में परीक्षा अथवा प्रैक्टिकल चल रहे हैं, वह परीक्षा के दिन खुल सकेंगे।

आपको बता दें कि एक बार फिर देश के कई राज्यों के कई प्रदेशों में नाइट कर्फ्यू लगने के ऐलान से लोगों में संपूर्ण लॉकडाउन का भय सताने लगा हैं, क्योंकि पिछले साल भी पहले कोरोना महामारी को लेकर सरकार ने नाइट कर्फ्यू लगाया था, जिसके बाद आंशिक लॉकडाउन और फिर संपूर्ण लॉकडाउन। बता दें कि इन आशंकाओं को लेकर कई प्रदेशों से प्रवासियों का पलायन शुरू हो चुका है, जो अपने घर की ओर रवाना हो रहे है। जिसे लेकर आप बसों और स्टेशनों पर भीड़ों का जमावड़ा देख सकते है।

प्रवासी मजदूरों का कहना है कि वे पहले के ही लॉकडाउन में इतना कुछ भोग चुके है, जिसे अब वे दोबारा भोगना नहीं चाहेंगे। वे आज भी उस लॉकडाउन को याद कर सहम जाते है और रोने लगते है।

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.