1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. UP: डेंगू, वायरल बुखार से कानपुर में मचा हड़कंप, 300 से अधिक मरीज भर्ती, केंद्र ने किया 11 राज्यों को अलर्ट

UP: डेंगू, वायरल बुखार से कानपुर में मचा हड़कंप, 300 से अधिक मरीज भर्ती, केंद्र ने किया 11 राज्यों को अलर्ट

उत्तर प्रदेश में COVID-19 मामलों में कमी आने के कुछ ही महीनों बाद ही राज्य में डेंगू के प्रकोप ने लोगों में अफरातफरी का माहौल उत्पन्न कर दिया है। जिससे राज्य के कई इलाकों में हड़कंप मच गया है। बढ़ते मामलों के बीच, उत्तर प्रदेश डेंगू बुखार के प्रकोप से भारत में सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य बन गया है।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश में COVID-19 मामलों में कमी आने के कुछ ही महीनों बाद ही राज्य में डेंगू के प्रकोप ने लोगों में अफरातफरी का माहौल उत्पन्न कर दिया है। जिससे राज्य के कई इलाकों में हड़कंप मच गया है। बढ़ते मामलों के बीच, उत्तर प्रदेश डेंगू बुखार के प्रकोप से भारत में सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य बन गया है। बताया गया है कि पिछले एक महीने में उत्तर प्रदेश के कानपुर के लाला लाजपत राय अस्पताल में वायरल फीवर, डेंगू और मलेरिया के बढ़ते मामलों के चलते करीब 300 लोगों को भर्ती कराया गया है। इस गिनती में कई बच्चे भी शामिल थे।

कानपुर के अस्पताल में भर्ती कई मरीजों में डेंगू और मलेरिया की पुष्टि हुई है। अस्पताल के अधिकारियों ने कहा है कि मामलों की अधिक संख्या के बावजूद, अस्पताल में अभी तक प्रकोप के कारण किसी की मौत नहीं हुई है।

एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, लाला लाजपत राय अस्पताल के प्रभारी डॉ. संजय काला ने कहा कि, “एक-एक महीने से वायरल बुखार के 250 से अधिक रोगियों को हमारे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अधिकांश रोगी ठीक हो गए हैं जबकि वायरल निमोनिया के कुछ रोगियों ने जटिलताएं विकसित की हैं।”

डॉक्टर ने आगे कहा कि, “मृत्यु दर काफी कम है। साथ ही डेंगू के 25 मरीज भर्ती किए गए हैं, जिनमें 10 बच्चे हैं और कुछ मलेरिया के भी भर्ती हैं। हालांकि, अस्पताल में इन बीमारियों से किसी की मौत नहीं हुई है।”

राज्य में डेंगू के फैलने के संबंध में उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा था कि राज्य सरकार इस प्रकोप को रोकने के लिए कई कदम उठा रही है। कल केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने भी 11 राज्यों में सेरोटाइप-II डेंगू के प्रसार के संबंध में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के अधिकारियों के साथ एक बैठक की अध्यक्षता की और राज्यों को अलर्ट किया। इस दौरान स्वास्थ्य सचिव ने इस प्रकोप को नियंत्रित करने और लोगों को सुरक्षित रखने के लिए कई कदम भी उठाये।

डेंगू के मामलों में वृद्धि को रोकने के लिए सुझाए गए कुछ कदमों में मामलों का जल्द पता लगाना, बुखार हेल्पलाइन का संचालन और परीक्षण किट, लार्वासाइड्स और दवाओं का पर्याप्त स्टॉक करना शामिल है। पिछले महीने जिन राज्यों में डेंगू के मामले सामने आए हैं उनमें आंध्र प्रदेश, गुजरात, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, राजस्थान, तमिलनाडु और तेलंगाना शामिल हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...