1. हिन्दी समाचार
  2. विदेश
  3. काबुल में लगे पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे से बौखलाया तालिबान, प्रदर्शन कर रहे लोगों पर की फायरिंग, पत्रकारों को भी उठाया

काबुल में लगे पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे से बौखलाया तालिबान, प्रदर्शन कर रहे लोगों पर की फायरिंग, पत्रकारों को भी उठाया

काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद से अफगानिस्तान में लगातार लोग पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। काबुल की सड़कों पर लोग पाकिस्तान मुर्दाबाद, आजादी और सपोर्ट पंजशीर के नारे लगा रहे हैं। जिससे तालिबान बौखला उठा है और उसने प्रदर्शन कर रहे लोगों पर फायरिंग कर दी।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद से अफगानिस्तान में लगातार लोग पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। काबुल की सड़कों पर लोग पाकिस्तान मुर्दाबाद, आजादी और सपोर्ट पंजशीर के नारे लगा रहे हैं। जिससे तालिबान बौखला उठा है और उसने प्रदर्शन कर रहे लोगों पर फायरिंग कर दी। जिससे वो इस प्रदर्शन में शामिल लोगों को तीतर-बीतर कर सकें।

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक तालिबान के लड़ाकों द्वारा काबुल में राष्ट्रपति पैलेस के पास फायरिंग की गई। जहां हज़ारों महिला और पुरुष प्रदर्शन कर रहे हैं। इन लोगों का कहना है कि अफगानिस्तान को एक स्वतंत्र सरकार चाहिए न कि कोई पाकिस्तानी कठपुतली सरकार। लोग पाकिस्तान, अफगानिस्तान छोड़ो जैसे नारे लगा रहे हैं।

तालिबान द्वारा उन पत्रकारों और कैमरामैन को भी गिरफ्तार किया गया है, जो मंगलवार को होने वाले प्रदर्शन को कवर कर रहे थे। बता दें कि अफगानिस्तान में तालिबान के सरकार गठन में हो रही देरी के बीच पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद 4 सितंबर को काबुल पहुंचे थे। रिपोर्ट्स बताती हैं कि हमीद ने तालिबान के वरिष्ठ नेताओं से बातचीत की है और सरकार में हक्कानी नेटवर्क के उचित प्रतिनिधित्व की बात उठाई है।

 

आपको बता दें कि पाकिस्तान पर तालिबान को सपोर्ट करने के आरोप लगते रहे हैं। कई मीडिया रिपोर्ट्स ने इस बात का सबूत भी पेश किया है कि  कैसे पाकिस्तान अफगानिस्तान सरकार को अस्थिर करके तालिबान का सहयोग कर रही है। अफगानिस्तान और अमेरिका के साथ सालों से जारी युद्ध में पाकिस्तान एकमात्र ऐसा देश रहा है जो तालिबान का समर्थक है। तालिबान ने लगातार पाकिस्तान को अपना दूसरा घर बताया है। हाल ही पाकिस्तान के केंद्रीय मंत्री ने कहा था कि पाकिस्तान, तालिबान का ‘संरक्षक’ रहा है और लंबे वक्त तक उनकी देखभाल की है। पाकिस्तान, तालिबान शासन को मान्यता देने वाला सबसे पहला देश हो सकता है।

पाक ने पंजशीर में किया था ड्रोन हमला

पंजशीर में पाकिस्तानी वायुसेना द्वारा नॉर्दर्न एलायंस के ठिकानों पर ड्रोन से हमले किए गए थे, जिससे तालिबान को फायदा हुआ था। इसी के बाद अफगानिस्तान के नागरिकों का पाकिस्तान के प्रति गुस्सा फूटा है। बीते दिन से ही काबुल, मजार ए शरीफ में प्रदर्शन शुरू हुआ, खास बात ये है कि प्रदर्शन करने वालों में महिलाएं अव्वल हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...